राजस्थान में मंत्रिमंडल का गठन, 23 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ

जयपुर। राजस्थान में सोमवार को मंत्रिमंडल का गठन हो गया। गहलोत सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार के तहत 23 विधायकों ने सोमवार को मंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल कल्याण सिंह ने सभी मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। गहलोत मंत्रिमंडल में शामिल 23 मंत्रियों में कांग्रेस के 22 और राष्ट्रीय लोकदल से एक मंत्री शामिल हैं।
सोमवार को राजभवन में आयोजित शपथग्रहण समारोह में कुल 13 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली। मैराथन बैठकों के बाद मंत्रिमंडल के नामों पर अंतिम मुहर लगी। नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और वरिष्ठ नेताओं के साथ पिछले दिनों मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री सहित पार्टी के नेताओं ने कई दौर की बैठकों के बाद रविवार को इन सभी मंत्रियों के नामों पर अंतिम सहमति दी। बता दें कि 17 दिसंबर को जयपुर के अल्बर्ट हॉल में अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री पद की और सचिन पायलट ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।
ये बने कैबिनेट मंत्री
बीडी कल्ला, शांति धारीवाल, डॉ. रघु शर्मा, लालचंद कटारिया, प्रमोद जैन भाया, परसादी लाल मीणा, विश्वेन्द्र सिंह, हरीश चौधरी, रमेश चंद्र मीणा, मास्टर भंवर लाल मेघवाल, प्रताप सिंह खाचरियावास, उदय लाल आंजना और सालेह मोहम्मद ने केबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की।
ये बने राज्यमंत्री
गोविंद सिंह डोटासरा, ममता भूपेश, अर्जुन सिंह बामणिया, भंवर सिंह भाटी, सुखराम विश्नोई, अशोक चांदना, टीकाराम जोली, भजनलाल जाटव, राजेन्द्र सिंह यादव और आरएलडी के सुभाष गर्ग ने राज्य मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की।
जानें, इन प्रमुख नए मंत्रियों के बारे में:-
लालचंद कटारिया: मनमोहन सरकार में केंद्र में मंत्री रह चुके हैं, पहली बार राजस्थान में मंत्री बनने का मौका।
डॉ. रघु शर्मा: कैंपेन समिति के अध्यक्ष रहे, गहलोत के खास माने जाते हैं, सचिन पायलट से भी करीबी, केकड़ी से दूसरी बार चुनाव जीते।
प्रमोद जैन भाया: अंता सीट से विधायक, सचिन पायलट के करीबी।
विश्वेंद्र सिंह: डीग से विधायक, तीन बार सांसद रहे, पूर्वी राजस्थान में दिग्गज जाट नेता।
हरीश चौधरी: कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव, बाड़मेर से सांसद भी रहे, अभी बायतु सीट से विधायक।
रमेश चंद मीणा: पहली बार कांग्रेस से विधायक बने, 2008 में बीएसपी से जीते थे।
उदयलाल आंजना: गहलोत के करीबी और एक बार फिर निंबाहेड़ा से दूसरी बार विधायक, ओबीसी के बड़े नेता के रूप में पहचान।
प्रताप सिंह खाचरियावास: जयपुर के सिविल लाइन सीट से दूसरी बार विधायक बने। बीजेपी के खिलाफ संघर्ष में अग्रिम भूमिका।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »