Russia ने हमला करके क़ब्ज़े में लिए यूक्रेन के तीन नौसैनिक जहाज़

Russia ने क्रीमियाई प्रायद्वीप के पास यूक्रेन के तीन नौसैनिक जहाज़ों पर हमला करके उन्हें अपने क़ब्ज़े में ले लिया है.
इस घटना से Russia और यूक्रेन के बीच तनाव और बढ़ गया है. दोनों देश इन हालात के लिए एक-दूसरे को ज़िम्मेदार बता रहे हैं.
यह विवाद तब उठा जब Russia ने आरोप लगाया कि यूक्रेन के जहाज़ आज़ोव सागर में ग़ैरक़ानूनी ढंग से उसकी जल सीमा में घुस आए हैं.
इसके बाद रूस ने कर्च में तंग जलमार्ग पर एक पुल के नीचे टैंकर तैनात करके आज़ोव सागर की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर दिया.
अज़ोव सागर ज़मीन से घिरा हुआ है और काला सागर से कर्च के तंग रास्ते से होकर ही इसमें प्रवेश किया जा सकता है.
आज़ोव सागर की जलीय सीमाएं रूस और यूक्रेन में बंटी हुई हैं.
क्या कहना है यूक्रेन का
यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने देश की नेशनल सिक्यॉरिटी एंड डिफ़ेंस काउंसिल की मीटिंग में रूस के कार्रवाई को ‘सनक’ भरा क़दम क़रार दिया.
यूक्रेन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि रूस के विशेष बलों ने बंदूक़ों से लैस दो नावों और नौकाओं को खींचने वाले एक जहाज़ का पीछा किया और फिर उन्हें अपने क़ब्ज़े में ले लिया.
बयान में कहा गया है कि इस घटना में क्रू के छह सदस्य ज़ख्मी हुए हैं.
यूक्रेन के राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने जानकारी दी है कि इस संबंध में ‘वॉर कैबिनेट’ की ज़रूरी बैठक बुलाई गई है.
इस घटना के बाद यूक्रेन में मार्शल लॉ लगाने की तैयारी की जा रही है. यूक्रेन के सांसद आज मार्शल लॉ लगाने के एलान पर पर वोटिंग करेंगे.
रूस का क्या है रुख़
अभी तक रूस की ओर से यूक्रेन के इन दावों पर प्रतिक्रिया नहीं आई है.
इससे पहले रूस ने यूक्रेन पर ग़ैरकानूनी तरीके से रूसी जल सीमा में प्रवेश करने का आरोप लगाया था.
अब यूक्रेन की नौसेना का कहना है कि रूस ने निकोपोल और बर्डियांस्क नाम की गनबोटों पर हमला करके उन्हें नकारा बना दिया है.
इससे पहले रूस ने यूक्रेन के जलपोतों की निगरानी के लिए दो लड़ाकू विमान और दो हेलिकॉप्टर लगाए हुए थे.
2014 में रूस द्वारा क़ब्ज़ाए गए क्रीमियाई प्रायद्वीप के साथ लगते समुद्री इलाक़े में हाल के महीने में तनाव अचानक बढ़ा है.
इस बीच यूरोपीय संघ ने रूस से कहा है कि “यूक्रेन को कर्च से आज़ोव सागर में अपने हिस्से में जाने से न रोका जाए.”
नैटो ने भी इस मामले में यूक्रेन का समर्थन किया है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »