सुप्रीम कोर्ट के लिए ट्रंप द्वारा नामित Brett Kavanaugh को एक समिति से मिली मंजूरी

अमरीकी सीनेट की एक समिति ने सुप्रीम कोर्ट के लिए राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की ओर से नामित Brett Kavanaugh की नियुक्ति को मंज़ूरी दे दी है.
इसी बीच Kavanaugh की नियुक्ति पर समूची सीनेट का मतदान एक सप्ताह के लिए टाल दिया गया है.
इस दौरान एफ़बीआई उन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच करेगी.
सीनेट समिति की बहस के दौरान राष्ट्रपति ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर जेफ़ फ्लेक ने कहा कि वो Kavanaugh की नियुक्ति की पुष्टि के लिए जारी सुनवाई में एक सप्ताह की देरी चाहते हैं.
हालांकि सीनेट की न्यायिक समिति में जेफ़ फ़्लेक ने ब्रेट Kavanaugh के समर्थन में मतदान किया.
अंततः कैवनॉग के समर्थन में न्यायिक समिति ने 11-10 के अंतर से मुहर लगाई.
रिपब्लिकन पार्टी के सभी सीनेटरों ने उनके समर्थन में और डेमोक्रेटिक पार्टी के सभी सीनेटरों ने विपक्ष में मतदान किया.
गुरुवार को सीनेट समिति ने ब्रेट कैवनॉग पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की सुनवाई की.
कैलिफ़ोर्निया में मनोविज्ञान की प्रोफ़ेसर क्रिस्टीन ब्लासी फ़ोर्ड ने कैवनॉग पर किशोरावस्था के दौरान यौन उत्पीड़न करने के आरोप लगाए हैं.
डॉ. फ़ोर्ड और कैवनॉग ने समिति के समक्ष अपना-अपना पक्ष रखा.
कैवनॉग ने आरोपों को ग़लत बताया
जज कैवनॉग ने सभी आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा कि इन आरोपों से उनका और उनके परिवार का नाम ख़राब किया जा रहा है.
सदन में डेमोक्रेटिक पार्टी और रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटरों के बीच लंबी और तीखी बहस के बाद न्यायिक समिति ने जज कैवनॉग के नामांकन पर मतदान किया जिसमें उन्हें मंज़ूरी मिल गई.
सीनेट में इस समय रिपब्लिकन पार्टी के पास 51-49 के अंतर से मामूली बढ़त हासिल है.
रिपब्लिकन सीनेटर जेफ़ फ़्लेक ने कहा है कि वो एफ़बीआई की जांच के बिना कैवनॉग के नामांकन की पुष्टि सीनेट में नहीं करेंगे.
यदि जेफ़ फ़्लेक और किसी अन्य रिपब्लिकन सीनेटर ने कैवनॉग का समर्थन नहीं किया और सभी डेमेक्रोट सीनेटरों ने उनका विरोध कर दिया तो सुप्रीम कोर्ट में उनकी नियुक्ति की पुष्टि नहीं हो सकेगी.
नतीजा टाई होने की स्थिति में उपराष्ट्रपति माइक पेंस का मत अंतिम फ़ैसला निर्धारित करेगा.
शुक्रवार को सीनेट की न्यायिक समिति की मंज़ूरी हासिल करके कैवनॉग ने सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त होने की पहली बाधा पार कर ली है. अब उन्हें समूची सीनेट में बहुमत हासिल करना होगा.
यदि उनकी नियुक्ति की पुष्टि हो जाती है तो सुप्रीम कोर्ट में रिपब्लिकन विचारधारा के जजों का बहुमत होगा.
माना जा रहा है कि कैवेनॉ की नियुक्ति के बाद सुप्रीम कोर्ट में लंबे समय तक रिपब्लिकन पार्टी की विचारधारा का प्रभाव रहेगा.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »