Budget पर 5 शख्सियतों का दिमाग, खुद पीएम ले रहे हैं दिलचस्‍पी

नई दिल्‍ली। एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के विकास की रफ्तार बढ़ाने के लिए इस वीकेंड पेश होने वाले Budget की तैयारियों में खुद पीएम मोदी खासी दिलचस्पी दिखा रहे हैं।
पीएम मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कई अर्थशास्त्रियों, उद्योगपतियों और किसान समूहों आदि से अलग-अलग बैठकें कीं ताकि उनकी सुस्ती से निपटने को लेकर उनकी राय जानी जा सके। 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना Budget भाषण देंगी।
आइए जानें, इस Budget को तैयार करने और इसे अंतिम रूप देने में किन 5 शख्सियतों ने दिमाग लगाया है। ब्लूमबर्ग के मुताबिक सरकार की आमदनी और खर्च की योजना तैयार करने वालों में 5 प्रमुख नाम हैं।
राजीव कुमार, फाइनैंस सेक्रटरी
वित्त मंत्रालय में टॉप ब्यूरोक्रैट राजीव कुमार ने बैंकिंग सुधार में कड़े फैसले लिए। उन्होंने बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन के लिए बैंकों के मर्जर (विलय) का काम किया। उम्मीद की जा रही है कि इस Budget में वह बैंकिंग सेक्टर को संकट से उबारने के साथ-साथ खपत बढ़ाने के लिए क्रेडिट ग्रोथ बढ़ाने की दिशा में काम करेंगे।
अतनु चक्रवर्ती, आर्थिक मामलों के सचिव
अतनु ने पिछले वर्ष जुलाई में कार्यभार संभाला था, जो सरकारी संपत्ति की बिक्री के एक्सपर्ट माने जाते हैं। उनके कार्यभार संभालने के बाद इकॉनमी की रफ्तार 5 फीसदी से नीचे आ गई लेकिन उनकी अगुवाई में बने पैनल ने ग्रोथ को पटरी पर लाने के लिए एक ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा का इन्फ्रास्ट्रक्टर प्रोग्राम तैयार किया। Budget घाटे के लक्ष्य तय करने के लिए उनके इनपुट अहम हैं। साथ ही वह इकॉनमी में जान फूंकने के लिए संसाधन बढ़ाने पर भी काम कर रहे हैं।
टीवी सोमनाथन, व्यय सचिव
सोमनाथन हाल में ही वित्त मंत्रालय में आए हैं। वह PMO में काम कर चुके हैं लिहाजा शायद वह समझते हैं कि पीएम मोदी किस तरह का Budget देखना पसंद करेंगे। सोमनाथन पर सरकारी खर्च को इस तरह से मैनेज करने की जिम्मेदारी है जिससे फिजूल खर्च में कमी आए और मांग को बढ़ावा मिल सके।
अजय भूषण पांडे, राजस्व सचिव
अजय भूषण पर संसाधन बढ़ाने की जिम्मेदारी है और संभवत: वह मंत्रालय के ऐसे अफसर हैं, जिन पर सबसे ज्यादा दबाव है क्योंकि सुस्ती के माहौल में राजस्व वसूली (रेवेन्यू कलेक्शन) उम्मीद से काफी रकम हुआ है। उम्मीद की जा रही है कि वह डायरेक्ट टैक्स कोड के कुछ प्रस्तावों को प्रभावित कर सकते हैं।
तुहीन कान्ता पांडे, विनिवेश सचिव
एयर इंडिया की रणनीतिक बिक्री की जिम्मेदारी तुहीन कांता के हाथ में है। अन्य सरकारी कंपनियों के विनिवेश की जिम्मेदारी भी इन्हीं के हाथ में है ताकि सरकार की आय बढ़ सके। बहरहाल, मौजूदा वित्त वर्ष में 1.05 लाख करोड़ रुपये का टारगेट पूरा नहीं हुआ नहीं और इतने कम समय में पूरा होने के आसार भी कम हैं। ऐसे में अगले वित्त वर्ष में विनिवेश के जरिए फंड जुटाना बड़ी चुनौती होगी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »