5 साल पुराने पोस्टर के कारण ट्विटर पर फिर ट्रेंड करने लगा #BoycottMyntra

एक मुहावरा है ‘रात गई, बात गई’, लेकिन यहां तो 5 साल चले गए पर बात अभी तक नहीं गई। 5 साल पुराना एक पोस्टर मिंत्रा Myntra के आज को प्रभावित करने में लगा है।
इस पोस्टर के चलते एक बार फिर ट्विटर पर #BoycottMyntra और #UninstallMyntra ट्रेंड होने लगा है। वह भी तब, जब मिंत्रा ने वह पोस्टर बनाया ही नहीं था।
बात अगस्त 2016 की है। अगस्त 2016 में एक एंटी हिंदू पोस्टर के चलते ‘बॉयकॉट मिंत्रा’ ट्रेंड हुआ था। 5 साल पहले एक एजेंसी स्क्रोलड्रोल ने मिंत्रा के लिए एक विज्ञापन तैयार किया था। इसमें महाभारत के द्रौपदी चीरहरण पर बेस्ड इलस्ट्रेशन को इस्तेमाल किया गया था। ग्राफिक में दिखाया गया था कि जब दुशासन द्रौपदी का चीरहरण कर रहा है, उस वक्त कृष्ण मिंत्रा ऐप पर ‘एक्स्ट्रा लॉन्ग’ साड़ी सर्च कर रहे हैं। बस फिर क्या था। भारतीयों को यह बिल्कुल पसंद नहीं आया और उन्होंने मिंत्रा को आड़े हाथों ले डाला। ट्विटर यूजर्स ने मिंत्रा को खरी खोटी सुनाते हुए बॉयकॉट मिंत्रा और अनइंस्टॉल मिंत्रा का ट्रेंड शुरू कर दिया। उनका कहना था कि यह महाभारत और हिंदू धर्म का अपमान है।
मिंत्रा ने दी थी यह सफाई
फजीहत होने के बाद स्क्रोलड्रोल ने इस इलेस्ट्रेशन को हटा दिया था और सार्वजनिक रूप से इसके लिए माफी मांग ली थी। स्क्रोलड्रोल ने यह पोस्टर फरवरी 2016 में बनाया था और तुंरत ही इसे हटा भी लिया गया था। वहीं मिंत्रा ने ट्वीट करके यह स्पष्ट किया था कि उसने यह एड क्रिएट नहीं किया है और न ही इसे एंडोर्स किया है। यह क्रिएटिव थर्ड पार्टी स्क्रोल डोल ने तैयार और पोस्ट किया है और इस बारे में मिंत्रा को कोई जानकारी नहीं थी और न ही उससे मंजूरी ली गई थी। मिंत्रा ने यह भी कहा था कि हम स्क्रोलडोल के खिलाफ हमारे ब्रांड का इस्तेमाल करने के लिए लीगल एक्शन लेंगे। स्क्रोलड्रोल ने भी कहा था कि इस आर्टवर्क की जिम्मेदारी हम लेते हैं। मिंत्रा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इससे जुड़ी हुई नहीं है।
5 साल बाद फिर भड़के ट्विटर यूजर्स
अब 5 साल बाद उसी पुराने पोस्टर को इस्तेमाल करते हुए ट्विटर यूजर्स एक बार फिर मिंत्रा के खिलाफ मोर्चा निकाल रहे हैं।
हालांकि कुछ यूजर्स ट्विटर पर समझा रहे हैं कि ये इलस्ट्रेशन 5 साल पुराना है और मिंत्रा ने इसे नहीं बनाया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *