बोरिस जॉनसन की समय से पहले चुनाव कराने की मांग खारिज

ब्रिटिश सासंदों ने एक बार फिर प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के समय से पहले चुनाव कराने की मांग को ख़ारिज कर दिया है.
बोरिस जॉनसन अक्तूबर में होने वाले यूरोपीय संघ के सम्मेलन से पहले आम चुनाव करवाना चाहते हैं.
कुल मिलाकर, 293 सांसदों ने प्रधानमंत्री के चुनाव के प्रस्ताव के पक्ष में वोट किया जो कि इसे पारित करने की संख्या से कहीं कम है.
इससे पहले विपक्षी सांसदों ने 15 अक्तूबर को चुनाव कराए जाने के प्रस्ताव के पक्ष में वोट नहीं देने के अपने फ़ैसले की पुष्टि करते हुए इस बात पर जोर दिया था कि ब्रेग्ज़िट को नकारा जाना चाहिए.
प्रधानमंत्री जॉनसन को यह चेतावनी दी गई कि उन्हें इसका अनादर करने पर क़ानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ सकता है.
मंत्रियों ने इस क़ानून को बेकार बताते हुए कहा कि वे इसका परीक्षण करेंगे कि इसकी क्या आवश्यकता है.
इससे पहले भी ब्रिटेन की विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की समय से पहले चुनाव करवाने की मांग का विरोध करने का फ़ैसला किया था.
बोरिस जॉनसन अक्टूबर में होने वाले यूरोपीय संघ के सम्मेलन से पहले आम चुनाव करवाना चाहते हैं मगर विपक्षी दलों के बीच सहमति बनी है कि वे किसी भी हाल में इसका समर्थन नहीं करेंगे.
मगर प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि पार्टियां ऐसा करके “बड़ी राजनीतिक ग़लती” कर रही हैं.
हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स ने ‘नो-डील ब्रेग्ज़िट’ को रोकने वाले बिल को पारित कर दिया है. यह क़ानून ब्रिटेन को बिना समझौता किए यूरोपीय संघ से बाहर होने से रोकेगा.
अगर ब्रिटेन और ईयू के बीच 19 अक्टूबर तक कोई समझौता नहीं हुआ तो इस क़ानून के कारण प्रधानमंत्री को यूरोपीय संघ से ब्रेग्ज़िट की समयसीमा 31 अक्टूबर तक बढ़ाने की अपील करनी होगी.
क्या चाहते हैं ब्रितानी प्रधानमंत्री
बोरिस जॉनसन चाहते हैं कि 17 और 18 अक्टूबर को होने वाले यूरोपीय संघ के सम्मेलन से पहले 15 अक्टूबर को ही चुनाव करवा लिए जाएं.
उनका मानना है कि समय से पहले अचानक करवाए जाने वाले चुनाव से सरकार को अक्टूबर के आख़िर तक ब्रेग्ज़िट करवाने की दिशा में बढ़ने में मदद मिलेगी.
विपक्षी सांसदों का कहना है कि जॉनसन बिना समझौते के ही ब्रिटेन को यूरोपीय संघ से बाहर निकालने पर तुले हुए हैं.
बीते हफ़्ते प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को ब्रेग्ज़िट को लेकर संसद में कई बार हार का मुंह देखना पड़ा.
उनकी पार्टी के 21 सांसद बाग़ी होने के कारण निकाल दिए गए हैं जबकि उनके छोटे भाई जो जॉनसन ने सरकार से इस्तीफ़ा दे दिया है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »