जस्‍टिस लोया मामले में बॉम्बे लॉयर्स एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया Review petition

नई दिल्ली। जज लोया मामले में बॉम्बे लॉयर्स एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट में review petition दाखिल की है।

याचिका में मांग की गई है कि कोर्ट अपने आदेश के निष्कर्षों को हटाये जिसमें कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि न्यायपालिका की आजादी पर हमला और न्यायिक संस्थानों की विश्वसनीयता को कम करने का प्रयास किया जा रहा है।

दरअसल, इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस लोया केस की SIT से जांच कराने की मांग ठुकरा दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अब जस्टिस लोया केस में कुछ नहीं है। कोर्ट ने कहा था कि केस को देख रहे जजों पर संदेह करने का कोई कारण नहीं है। कोर्ट ने कहा था कि याचिकाकर्ताओं की मंशा न्यायपालिका को खराब करना है।

सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा था कि जज लोया के मामले में जांच के लिए दी गई अर्जी में कोई दम नहीं है। कोर्ट ने यह भी कहा कि जजों के बयान पर संदेह का कोई कारण नहीं है।

उनके बयान पर संदेह करना संस्थान पर संदेह करना जैसा होगा। याचिका में जस्टिस लोया के मौत की जांच SIT से कराने की मांग की गई थी।

तीन साल पहले 30 नवंबर 2014 में सहयोगी जज की बेटी की शादी में शामिल होने जस्‍टिस बृजगोपाल हरकिशन लोया मुंबई से नागपुर गए थे। वहां वे रवि भवन में रुके। 1 दिसंबर की सुबह उनके परिवार को जानकारी दी गयी कि हर्ट अटैक के कारण जस्‍टिस लोया की मौत हो गयी।

महाराष्‍ट्र मूल के पत्रकार बीएस लोन और कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला के अनुसार जस्‍टिस लोया की मौत रहस्‍यमयी परिस्‍थितियों में हुई। इसलिए उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की जांच की याचिका डाली थी,  अब review petition डालने वाली एसोसिएशन का कहना है कि कोर्ट ने फैसला देते वक़्त कई महत्वपूर्ण तथ्यों पर विचार नहीं किया था।।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »