Srilanka के चर्च और होटलों में ब्‍लास्‍ट: 156 लोगों की मौत, सैकड़ों घायल

कोलंबो। Srilanka के 3 चर्च और 3 होटलों में जबरदस्त ब्‍लास्‍ट हुए हैं। न्यूज़ एजेंसी एएफपी के मुताबिक इस धमाके में कम से कम 156 लोगों के मारे जाने की बात कही है। वहीं करीब 300 लोगों के घायल होने की बात भी कही जा रही है।
एक के बाद एक लगातार 6 धमाकों से पूरा Srilanka दहल गया है। रविवार को हुए इन धमाकों में 3 चर्च और 3 फाइव स्टार होटलों को निशाना बनाया गया है। धमाकों में कम से कम 156 लोग मारे गए हैं, जबकि 300 के आसपास घायल हैं।
पहला धमाका कोलंबो में सैंट एंटनी चर्च और दूसरा धमाका राजधानी के बाहर नेगोम्बो कस्बे के सेबेस्टियन चर्च में हुआ। वहीं तीसरा धमाका पूर्वी शहर बाट्टिकालोआ के चर्च में हुआ।
इसके अलावा जिन होटलों को निशाना बनाया गया है, उनमें द शांगरीला, द सिनामॉन ग्रैंड और द किग्सबरी शामिल हैं।
कोलंबो नेशनल हॉस्पिटल के प्रवक्ता डॉक्टर समिंडी समाराकून का कहना है कि करीब 280 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। न्यूज़ एजेंसी एएफपी का कहना है कि मरने वालों की सबसे ज्यादा संख्या कोलंबो में है, जहां 3 फाइव स्टोर होटल और एक चर्च को निशाना बनाया गया है। कोलंबो में ही सौ से अधिक लोग मरे हैं, जबकि बाट्टिकालोआ के चर्च में 44 लोगों के मारे जाने की खबर है। बम धमाके के बाद Srilanka ने आपातकालीन बैठक बुलाई है।
यह धमाका उस समय हुआ, जब ईस्टर की प्रार्थना के लिए लोग चर्च में एकत्रित हुए थे। पुलिस ने बताया कि स्थानीय समयनुसार पहला धमाका सुबह 8:45 पर हुआ। अभी तक किसी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। नेगोम्बो के सेबेस्टियन चर्च ने एक फेसबुक पोस्टर लिखा, ‘हमारे चर्च में एक बम धमाका हुआ है। कृपया आइए और हमारी मदद कीजिए।’
Srilanka राष्ट्रपति के राष्ट्रपति मैथरीपाला सिरीसेना ने कहा कि वह हमले की खबर के बाद से सदमे में हैं। उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। वहीं वहां के वित्त मंत्री मंगला समरवीरा ने अपनी ट्वीटर पर लिखा, ‘हमले में कई निर्दोष लोग मारे गए हैं। यह हमला पूरी तैयारी के साथ किया गया, ताकि हत्या कर अराजकता फैलाई जा सके।’
कोलंबो में धमाके की खबर के बाद भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर कहा कि मैं कोलंबो में भारतीय हाई कमीशनर के लगातार सम्पर्क में हूं। हम स्थिति पर पूरी तरह नजर बनाए हुए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »