कर्नाटक उपचुनाव में बीजेपी को झटका, कांग्रेस को मिली बड़ी सफलता

बेंगलुरु। कर्नाटक में तीन लोकसभा और दो विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में बीजेपी को झटका लगा है। दो लोकसभा सीट पर कांग्रेस को जीत मिली और 2 विधानसभा सीट में से एक पर वह जीत चुकी है, वहीं दूसरी सीट पर उसकी जीत लगभग पक्की है। बीजेपी को महज शिमोगा लोकसभा सीट पर ही कामयाबी मिली। ये नतीजे कर्नाटक की राजनीति के लिहाज से बेहद अहम माने जा रहे हैं। खासकर उपचुनाव के नतीजों के बाद 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस-जेडीएस मजबूत मनोबल के साथ मैदान में उतरेगी, वहीं बीजेपी को एक बार फिर से अपने कार्यकर्ताओं में जोश भरना होगा।
रामनगर में सीएम कुमारस्वामी की पत्नी जीतीं
मांड्या लोकसभा सीट पर जहां जेडीएस को कामयाबी मिली, वहीं बेल्लारी में कांग्रेस को जीत हासिल हुई। शिमोगा में बीजेपी और जेडीएस के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली, जिसके बाद बीजेपी को जीत हासिल हुई। रामनगर विधानसभा सीट पर जेडीएस ने जीत दर्ज की। यहां जेडीएस की प्रत्याशी सीएम एचडी कुमारस्वामी की पत्नी अनीता कुमारस्वामी को बनाया गया था। जामखंडी विधानसभा सीट पर कांग्रेस को जीत हासिल हुई। बीजेपी के लिए राहत की खबर शिमोगा लोकसभा सीट से मिली, जहां येदियुरप्पा के बेटे राघवेन्द्र की जीत जेडीएस उम्मीदवार से कड़ी टक्कर के बाद हुई। वहीं बेल्लारी लोकसभा सीट पर कांग्रेस को सफलता मिली। कांग्रेस ने यहां से वीएस उगरप्पा को प्रत्याशी बनाया था।
बेल्लारी में बीजेपी को लगा झटका
वहीं मांड्या लोकसभा सीट पर जेडीएस को जीत हासिल हुई। इस तरह तीन लोकसभा सीटों में से एक-एक सीट कांग्रेस, बीजेपी और जेडीएस को मिली है। खास बात यह है कि बेल्लारी को बीजेपी का गढ़ माना जाता रहा है। यहां बीजेपी नेता श्रीरामुलु की बहन शांता को उम्मीदवार बनाया गया था, लेकिन वह आदिवासी जनजाति के लिए आरक्षित यह सीट नहीं बचा सकीं।
3 नवंबर को हुआ था मतदान
बता दें, कर्नाटक में मंगवार को 3 लोकसभा सीटों और 2 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के बाद मतगणना कराई जा रही है। इन सीटों पर प्रमुख मुकाबला कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन और बीजेपी की बीच था। इन सभी सीटों पर 3 नवंबर को उपचुनाव की वोटिंग कराई गई थी, जिनमें औसतन 67 फीसदी मतदान हुआ था।
इस्तीफे की वजह से खाली हुई थीं सीटें
आप जानते होंगे, पांच में से चार सीटें इस्तीफे की वजह से और एक सीट विधायक के निधन की वजह से खाली हुई थी। शिवमोगा सीट बीएस येदियुरप्पा, बेल्लारी सीट श्रीमुलु और मांड्या सीट सीएस पुट्टाराजू के इस्तीफे के बाद खाली हुई थी। वहीं रामनगर सीट से सीएम कुमारस्वामी के इस्तीफे और जामखंडी सीट कांग्रेस विधायक सिद्धू न्यामगौड़ा के निधन के बाद खाली हुई थी।
जेडीएस-कांग्रेस मिलकर लड़े थे चुनाव
कर्नाटक में सत्तारूढ़ जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन ने सूबे में तीन लोकसभा और दो विधानसभा सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में साथ मिलकर लड़ने का ऐलान किया था। फैसले के मुताबिक कांग्रेस बेल्लारी और शिमोगा लोकसभा क्षेत्रों और जेडीएस मांड्या लोकसभा क्षेत्र में उपचुनाव लड़ने उतरी थी। वहीं विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस जामखंडी और जेडीएस रामनगर से चुनाव मैदान में उतरी थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »