दिशा की हिमायत लेने वालों को BJP के MP का जवाब, बुरहान वानी और कसाब भी 21 साल के थे

नई दिल्‍ली। भारतीय जनता पार्टी BJP के वरिष्ठ नेता और बेंगलुरु सेंट्रल संसदीय क्षेत्र से पार्टी के सांसद पीसी मोहन ने पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि की तुलना मुंबई के 26/11 हमले में पकड़े गए पाकिस्तानी चरमपंथी मोहम्मद अजमल आमिर क़साब से की है.
पीसी मोहन ने ट्विटर पर लिखा है, “बुरहान वानी भी 21 वर्ष का था. अजमल क़साब भी 21 वर्ष का ही था. उम्र बस एक संख्या है. कोई भी क़ानून से ऊपर नहीं है. क़ानून को अपना काम करने दीजिये. एक अपराध, हमेशा अपराध ही रहेगा.”
अपने इस ट्वीट के साथ उन्होंने #DishaRavi का इस्तेमाल किया है और दिशा रवि की एक तस्वीर भी पोस्ट की है.
उन्होंने लिखा है कि ‘जो लोग दिशा रवि का बचाव कर रहे हैं, उन्हें दिल्ली पुलिस के बयान को पढ़ना चाहिए.’
पीसी मोहन ने दिल्ली पुलिस का वो ट्वीट भी शेयर किया है, जिसमें लिखा है, “दिशा रवि उस टूलकिट की एडिटर हैं. वे उसे तैयार करने और उसे सोशल मीडिया पर सर्कुलेट करने वाले मुख्य साज़िशकर्ताओं में हैं. उन्होंने ही उस टूलकिट के अंतिम ड्राफ़्ट को बनाने वाली टीम के साथ काम किया था ताकि भारत के ख़िलाफ़ नफ़रत फैलाई जा सके. दिशा ने ही ग्रेटा थनबर्ग के साथ ये टूलकिट शेयर की थी.”
भाजपा सांसद पीसी मोहन विदेश मामलों पर बनी संसदीय समिति के सदस्य भी हैं. उनके ट्वीट को सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.
उनके बाद पार्टी की प्रवक्ता नुपुर शर्मा ने भी इस संबंध में ट्विट किया. उन्होंने लिखा, “किसी अपराध का उम्र या लिंग से कोई लेना-देना होता है? पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्याकाण्ड में शामिल महिलाएं भी कथित रूप से 17 या 24 वर्ष की थीं. निर्भया के रेपिस्ट और उसकी हत्या करने वालों में भी एक 17 वर्ष का था.”
प्रियंका, राहुल और केजरीवाल ने ली है दिशा-रवि की हिमायत
दिशा को लेकर कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लिखा है, “डरते हैं बंदूकों वाले एक निहत्थी लड़की से, फैले हैं हिम्मत के उजाले एक निहत्थी लड़की से.”
दिशा की गिरफ़्तारी की ख़बरें शेयर करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लिखा, “बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे, बोल कि सच ज़िंदा है अब तक! वो डरे हैं, देश नहीं. भारत को चुप नहीं कराया जा सकता.”
भारत के पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने लिखा, “यदि माउंट कार्मेल कॉलेज की 22 वर्षीय छात्रा और जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि देश के लिए ख़तरा बन गई हैं, तो भारत बहुत ही कमज़ोर बुनियाद पर खड़ा है. चीनी सैनिकों द्वारा भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की तुलना में किसानों के आंदोलन का समर्थन करने के लिए लाया गया एक टूलकिट अधिक खतरनाक है!
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लिखा, “22 साल की दिशा रवि की गिरफ़्तारी लोकतंत्र पर हमला है. किसानों का साथ देना कोई अपराध नहीं.”
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *