बीजेपी नेता का दावा, कर्नाटक में बहुत जल्‍द बनेगी हमारी सरकार

बेंगलुरू। कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार से 2 निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद से उथल-पुथल बढ़ गई है। एक ओर जेडी (एस) और कांग्रेस सरकार स्थिर होने की बात कह रही है वहीं बीजेपी नेता 2 से 3 दिन में राज्य में बीजेपी की सरकार बनने का दावा कर रहे हैं। महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री राम शिंदे ने दावा किया है कि बीजेपी कर्नाटक में 2 से 3 दिन में सरकार बना लेगी।
उधर, कर्नाटक के सीएम कुमारस्वामी का कहना है कि दो विधायकों के साथ छोड़ने से कोई असर नहीं पड़ेगा।
बीजेपी नेता राम शिंदे ने कहा, ‘कांग्रेस के पास बहुमत नहीं है। दो से 3 दिन में फैसला हो जाएगा और कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनेगी।’ वहीं कर्नाटक के डेप्युटी सीएम जी परमेश्वर ने कहा, ‘हम कहते आए हैं कि बीजेपी हमारे विधायकों को लालच दे रही है लेकिन सरकार गिराने का उनका प्रयास फेल हो जाएगा। हमारी सरकार स्थिर है।’
कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कहा, ‘अगर 2 विधायकों ने समर्थन वापस ले भी लिया, तो नंबर क्या होंगे? मैं आज पूरी तरह से निश्चिंत हूं। मुझे मेरी ताकत पता है। पिछले हफ्ते से मीडिया में जो कुछ चल रहा है, मैं एन्‍जॉय कर रहा हूं।’ खबर है कि कर्नाटक के हालातों पर दिल्ली में कांग्रेस की कोर कमेटी की बैठक होने वाली है, इसमें मल्लिकार्जुन खड़गे मौजूद रहेंगे।
मुंबई में ठहरे हैं कांग्रेस के विधायक
दूसरी ओर बीजेपी कांग्रेस के 4 बागी विधायकों के इंतजार में है। इन विधायकों को मुंबई में ठहराया गया है। कांग्रेस नेता और राज्य के कैबिनेट मंत्री जमीर अहमद ने भरोसा जताया है कि उनकी पार्टी का कोई विधायक पाला नहीं बदलेगा। जमीर अहमद का कहना है, ‘हमारी पार्टी के 4-5 विधायक मुंबई में हैं। अगर विधायकों को तोड़ने की कोई कोशिश की जाएगी तो हम चुप नहीं बैठेंगे। हम भी कुछ बीजेपी विधायकों के संपर्क में हैं। हमने अपने 2-3 विधायकों से बात की थी जबकि अन्य विधायकों का मोबाइल स्विच ऑफ है। मैं आपको यकीन दिला सकता हूं कि कोई विधायक पार्टी नहीं छोड़ेगा।’
वहीं, किसी भी तरह की टूट से बचने के लिए बीजेपी के सभी विधायक हरियाणा के एक रिजॉर्ट में ठहराए गए हैं। उनके साथ कर्नाटक के पूर्व सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता येदियुरप्पा भी शामिल है। पूर्व सीएम बीएस येदियुरप्पा भी पार्टी के सभी विधायकों के साथ यहीं रुके हुए हैं। रिजॉर्ट में टिके बीजेपी विधायकों की एक तस्वीर भी सामने आई है।
पूर्व सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया का भी कहना है कि बीजेपी लगातार अलोकतांत्रिक रवैया अख्तियार कर रही है लेकिन कर्नाटक में उनकी सरकार पर कोई संकट नहीं है। बता दें कि कर्नाटक में पिछले दिनों से जारी उठापटक के बीच मंगलवार को राज्य के दो निर्दलीय विधायकों ने अचानक जेडीएस-कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस लेने का ऐलान कर दिया। निर्दलीय विधायक एच नागेश और आर शंकर ने सरकार से नाराजगी का इजहार करते हुए समर्थन वापसी की घोषणा की है।
बीजेपी के साथ जाएंगे निर्दलीय विधायक
निर्दलीय विधायक आर शंकर का कहना है, ‘आज मकर संक्रांति है और इस मौके पर हम सरकार में बदलाव चाहते हैं। राज्य में प्रभावी सरकार होनी चाहिए लिहाजा मैं आज ही कर्नाटक सरकार से अपना समर्थन वापस लेता हूं।’ विधायकों का कहना है कि सरकार की कार्यप्रणाली से वे खुश नहीं हैं लिहाजा वे कुमारस्वामी सरकार से समर्थन वापस ले रहे हैं। दोनों विधायकों ने कर्नाटक के राज्यपाल को खत लिखते हुए तत्काल प्रभाव से समर्थन वापसी के अपने फैसले की जानकारी दी है।
समर्थन वापस लेने वाले दूसरे निर्दलीय विधायक एच नागेश का कहना है, ‘गठबंधन सरकार को मेरा समर्थन अच्छी और स्थिर सरकार के लिए था, जो कि यह सरकार देने में नाकाम रही। गठबंधन के सहयोगियों में कोई आपसी समझ नहीं है, इसलिए मैंने एक स्थिर सरकार के गठन के लिए बीजेपी के साथ जाने का फैसला किया है। मुझे उम्मीद है कि यह सरकार गठबंधन सरकार से अच्छा काम करेगी।’
यह है बहुमत का गणित
224 सदस्यों वाली कर्नाटक विधानसभा में बहुमत के लिए 113 विधायकों का समर्थन होना जरूरी है। अभी कांग्रेस-जेडीएस के कुल 116 और बीजेपी के 104 सदस्य हैं। गठबंधन सरकार को बीएसपी के एक विधायक का समर्थन भी हासिल है। निर्दलीय विधायक आर शंकर और एच नागेश के समर्थन वापस लेने के बाद अभी गठबंधन के पास बहुमत से 4 ज्यादा यानी 117 विधायकों का समर्थन है।
अटकलों की मानें तो बीजेपी का प्लान है कि विधानसभा की कुल संख्या को ही घटाकर 207 तक ले आया जाए जिससे कि उसके 104 विधायक बहुमत में आ जाएं। इसके लिए पार्टी को करीब 16 सदस्यों के इस्तीफे चाहिए। अगर संभावित बागी विधायकों की नाराजगी का फायदा बीजेपी को मिल भी जाता है, तो भी उसे कम से कम 16 विधायकों के इस्तीफे चाहिए होंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »