बीजेपी ने राहुल गांधी से पूछा, मात्र 10 साल में 55 लाख कैसे बन गए 09 करोड़?

नई दिल्ली। बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर आय से अधिक संपत्ति का गंभीर आरोप लगाया है। बीजेपी ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सवाल उठाते हुए कहा कि 2004 में राहुल गांधी ने अपने नामांकन पत्र में 55 लाख की संपत्ति बताई थी, जो 2014 में बढ़कर 9 करोड़ रुपये कैसे हो गई? बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ‘आखिर यह बड़ा इजाफा कैसे हो गया, जबकि उनकी कमाई का एकमात्र साधन सांसदी ही है और वह कोई डॉक्टर या वकील जैसे प्रोफेशनल नहीं हैं।’
यही नहीं, बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कथित तौर पर लैंड डील, फार्म हाउस से किराये और एक प्रॉपर्टी डील पर सवाल खड़े करते हुए कांग्रेस और राहुल गांधी को मानहानि केस करने की भी चुनौती दी।
‘फार्म हाउस लाखों का, किराया वसूला करोड़ों में’
बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने दिल्ली के महरौली में स्थित एक फार्म हाउस को लेकर दावा करते हुए कहा, ‘यह लगभग 5 एकड़ का है। इसके मालिक हैं, राहुल और प्रियंका गांधी। इसका नाम इंदिरा फार्म हाउस है। इसे 2013 में फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी इंडिया लिमिटेड नाम की कंपनी को रेंट पर दिया गया था। इसे प्रति महीने 7 लाख रुपये में किराया दिया गया था। पहली बार इसके लिए 40 लाख 20 रुपये एडवांस में लिए गए। यह रकम इंटरेस्ट फ्री थी। आखिर ऐसा कैसे हो सकता है कि कोई एडवांस पैसे दे दे और ब्याज भी न ले।’
एनएसईएल घोटाले से जोड़ा लिंक
बीजेपी ने फार्म हाउस को कथित तौर पर किराये पर लेनी वाली कंपनी एफआईटीएल को नेशनल स्पॉट एक्सचेंज लिमिटेड की सहायक कंपनी बताते हुए कहा कि यह कंपनी 2013 में एक बड़ा स्कैम कर चुकी है।
‘5 साल में फ्लैट से कमाए 3 करोड़ रुपये’
संबित पात्रा ने दावा किया कि इसी फार्म हाउस को 2007-08 से 2012-13 तक 3 करोड़ रुपये कमाए गए लेकिन यहां कोई रहता नहीं था, रहते दोनों भाई बहन ही थे। राहुल गांधी ने अपने एफिडेविट में इस फार्म हाउस की कीमत 9 लाख रुपये बताई है, लेकिन उससे किराया करोड़ों में कमाया गया।
‘7 करोड़ रुपये की संपत्ति सिर्फ 4 करोड़ में खरीदी’
संबित पात्रा ने गुरुग्राम में एक प्रॉपर्टी डील को लेकर गंभीर आरोप आरोप लगाते हुए कहा, ‘अक्टूबर 2010 में राहुल गांधी दो कॉमर्शियल प्रॉपर्टी खरीदते हैं। एक कीमत की 1.44 करोड़ और दूसरी 5.36 करोड़ की है। यह खरीद गुरुग्राम में सिग्नेचर टावर्स-2 में की गई। इसका प्रोपराइटर यूनिटेक है। प्रॉपर्टी 7 करोड़ की है, लेकिन एग्रीमेंट में सिर्फ 4 करोड़ दिए गए हैं। जो 4 करोड़ दिए हैं, वह फाइनेंशियल 2010-11 से 2014-15 तक इस पर ब्‍याज भी लेते हैं। क्या यह ब्याज कमाने के लिए दी गई रकम थी या फिर संपत्ति खरीदने के लिए दी गई। दोनों काम एक साथ नहीं हो सकते।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »