बीजेपी ने कांग्रेस पर नक्सल लिंक के आरोप लगाए, कांग्रेस ने किया पलटवार

नई दिल्ली। बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस के ऊपर नक्सल लिंक के आरोप लगाए थे। संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता जयराम रमेश और दिग्विजय सिंह के कथित तौर पर नक्सली कनेक्शन हैं।
कांग्रेस की तरफ से जवाब देने का जिम्मा पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने संभाला। मनीष तिवारी ने न केवल इन आरोपों का जवाब दिया बल्कि महंगे तेल, राफेल और रूस के साथ ए-103 असॉल्ट राइफलों के करार को लेकर भी निशाना साधा।
बीजेपी की तरफ से नक्सल लिंक का आरोप लगाए जाने के तुरंत बाद कांग्रेस ने पलटवार किया है। कांग्रेस ने कहा कि जिन तथाकथित पुलिस के कागज के आधार आरोप लगाया जा रहे हैं, वे बीजेपी के प्रवक्ता के पास कैसे आ जाते हैं।
कांग्रेस ने सवाल किया कि क्या बीजेपी इस देश में जांच एजेंसी का काम कर रही है? कांग्रेस ने कहा कि यही अघोषित आपातकाल है जब पार्टी, सरकार और जांच एजेंसी का भेद खत्म हो गया है।
अगर किसी पुलिस फोर्स ने किसी अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर दिया हो तो उसे सार्वजनिक डॉक्युमेंट समझा जा सकता है। जांच के दौरान जो तथाकथित कागज मिले हैं वे गलत हैं या सही हैं, ये प्रमाणित होने से पहले वह बीजेपी के पास चले आते हैं कि दुष्प्रचार के लिए इनका इस्तेमाल हो सके।’
कांग्रेस ने तेल कीमतों, राफेल डील और रूस के साथ ऑफसेट करार में सरकारी हस्तक्षेप जैसे तमाम मुद्दों पर भी मोदी सरकार पर हमला बोला है।
कांग्रेस नेता ने पांच मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर कहा कि जब उच्च न्यायालय ने पूछा कि गिरफ्तार क्यों किया है तो उसका कोई ठोस जवाब नहीं आया। बीजेपी के आरोपों पर पलटवार करते हुए तिवारी ने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा, ‘जर्मनी के नाजी हुक्मरान को इस बात में महारत हासिल थी कि किस तरह से प्रचार-प्रसार के माध्यम से किसी की छवि को धूमिल किया जाये।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »