केरल नन रेप केस में बिशप Mulkkal कोच्‍चि से गिरफ्तार

Mulkkal जालंधर डायोसिस के तहत आने वाले मिशनरीज ऑफ जीसस के बिशप थे

कोच्‍चि/कोच्‍चि। केरल में नन से बलात्कार के आरोप में घिरे जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल को आज कोच्चि से गिरफ्तार कर लिया है। 85 दिन पहले केरल पुलिस ने बिशप के खिलाफ मामला दर्ज किया था। उनकी गिरफ्तारी में हो रही देरी के चलते प्रदेश भर में विरोध किया जा रहा था।
क्राइम ब्रांच पिछले तीन दिन से बिशप से पूछताछ कर रही थी। करीब एक महीना पहले भी जालंधर में उससे पूछताछ की गई थी। मुलक्कल जालंधर डायोसिस के तहत आने वाले मिशनरीज ऑफ जीसस का बिशप था। विशेष जांच दल ने गुरुवार को उससे आठ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की। बिशप को शुक्रवार को जांच दल के समक्ष पेश होने का आदेश दिया गया था, जहां उसे गिरफ्तार कर लिया गया।
मुलक्कल की अग्रिम जमानत याचिका उच्च न्यायालय में लंबित है। पूछताछ के बाद पुलिस ने बताया कि जांच दल के सामने मामला आने के बाद इस संबंध में सत्यापन की जरूरत है और शुक्रवार सुबह तक इसे पूरा कर लिया गया। कैथोलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया ने बताया कि पोप फ्रांसिस ने अस्थायी तौर पर उन्हें उनकी जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया है। इस फैसले का प्रदर्शनरत ननों से स्वागत किया और इसे पूर्व बिशप के खिलाफ उनकी लड़ाई में ‘पहली जीत’ बताया। जालंधर डायोसिस के ‘मिशनरीज ऑफ जीसस कांग्रिग्रेशन’ की केरल स्थित नन ने मुलक्कल पर बार-बार बलात्कार और यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।
इससे पहले पादरी फ्रैंको Mulkkal आज सुबह लगातार तीसरे दिन पूछताछ के लिये तिरुवनंतपुरम स्थित अपराध शाखा कार्यालय पहुंचे।

वेटिकन ने बृहस्पतिवार को मुलक्कल को ”अस्थायी तौर पर उनकी जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया। Mulkkal जालंधर डायोसिस के तहत आने वाले मिशनरीज ऑफ जीसस के बिशप थे।

कोट्टायम के पुलिस अधीक्षक हरि शंकर ने बताया कि मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने शुक्रवार को पूछताछ की प्रक्रिया खत्म करने का फैसला किया है।

पूर्व बिशप से बृहस्पतिवार को आठ घंटे से अधिक समय तक पूछताछ हुई। उन्हें शुक्रवार सुबह साढ़े दस बजे तक जांच दल के समक्ष पेश होने का आदेश दिया गया है। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच पूछताछ के लिये वह कोच्चि में एक पांच सितारा होटल से सुबह 10 बजकर 40 मिनट पर पहुंचे।

मुलक्कल की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने कानूनी सलाह मांगी है। मुलक्कल की अग्रिम जमानत याचिका उच्च न्यायालय में लंबित है।

पूछताछ के बाद पुलिस ने बताया कि जांच दल के सामने मामला सामने आने के बाद इस संबंध में सत्यापन की आवश्यकता है और शुक्रवार सुबह तक इसे पूरा कर लिया जायेगा।

नन से कथित यौन उत्पीड़न मामले में लगातार बढ़ते आक्रोश के बीच ‘कैथोलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने बृहस्पतिवार को बताया कि पोप फ्रांसिस ने अस्थायी तौर पर उन्हें उनकी जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया है। इस फैसले का प्रदर्शनरत ननों से स्वागत किया और इसे पूर्व बिशप के खिलाफ उनकी लड़ाई में ”पहली जीत बताया।

जालंधर डायोसिस के ‘मिशनरीज ऑफ जीसस कांग्रीग्रेशन की केरल स्थित नन ने मुलक्कल पर बार-बार बलात्कार और यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »