बिरसा मुंडा जयंती आज: संसद परिसर में पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, लोकसभा अध्यक्ष और राज्यसभा के उपसभापति ने भी किया नमन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने सोमवार को बिरसा मुंडा की जयंती पर संसद भवन परिसर में उनकी प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित की.
इससे पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट भी किया गया- ‘भगवान बिरसा मुंडा जी को उनकी जयंती पर आदरपूर्ण श्रद्धांजलि. वे स्वतंत्रता आंदोलन को तेज़ धार देने के साथ-साथ आदिवासी समाज के हितों की रक्षा के लिए सदैव संघर्षरत रहे. देश के लिए उनका योगदान हमेशा स्मरणीय रहेगा.’
“प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड के लोगों को राज्य स्थापना दिवस बधाई देते हुए कहा कि झारखंड के सभी निवासियों को राज्य स्थापना दिवस की ढेरों शुभकामनाएं. अपनी विशिष्ट संस्कृति के साथ ऐतिहासिक पहचान रखने वाली भगवान बिरसा मुंडा की यह धरती विकास यात्रा में आगे बढ़े, यही कामना है.”
कौन थे बिरसा मुंडा
बिरसा मुंडा आदिवासी समाज के ऐसे नायक रहे, जिनको जनजातीय लोग आज भी गर्व से याद करते हैं. आदिवासियों के हितों के लिए संघर्ष करने वाले बिरसा मुंडा ने तब के ब्रिटिश शासन से भी लोहा लिया था.
उनके योगदान के चलते ही उनकी तस्वीर भारतीय संसद के संग्रहालय में लगी हुई है. ये सम्मान जनजातीय समुदाय में केवल बिरसा मुंडा को ही अब तक मिल सका है. बिरसा मुंडा का जन्म झारखंड के खूंटी ज़िले में हुआ था.
वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह समेत तमाम कैबिनेट नेताओं और अन्य नेताओं ने ट्वीट करके बिरसा मुंडा को याद किया है.
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया है- देशभक्ति, पराक्रम व धर्मनिष्ठा के प्रतीक भगवान बिरसा मुंडा जी ने जनजाति अस्मिता व अधिकारों के संरक्षण हेतु विदेशी शासन के विरुद्ध ‘उलगुलान’ आंदोलन शुरू कर समाज को नई दिशा दी. स्वधर्म और स्वदेश की रक्षा हेतु उनका संघर्ष व समर्पण वंदनीय है.
कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी ने भी ट्वीट किया-
स्वतंत्रता संग्राम के वीर सेनानी, शक्ति एवं साहस के प्रतीक भगवान बिरसा मुंडा जी की जयंती पर उन्हें शत् शत् नमन।
#जनजातीय_गौरव_दिवस पर, आइये हम न्याय एवं संघर्ष के लिए समर्पित रहे बिरसा जी की जीवन से प्रेरणा लें।
कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने क्षोभ ज़ाहिर किया
भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की कल 14 नवंबर को जयंती पर ना तो प्रधानमंत्री और ना ही कैबिनेट का कोई नेता संसद भवन पहुंचा था.
संसद भवन में नेहरू के श्रद्धांजलि कार्यक्रम लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला और राज्यसभा स्पीकर वैंकेया नायडू भी शामिल नहीं हुए.
इसे लेकर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने एक ट्वीट भी किया था और क्षोभ ज़ाहिर किया था. उन्होंने लिखा- आज संसद में अनोखा दृश्य दिखाई दिया. लोकसभा, राज्यसभा के स्पीकर तक पंडित नेहरू के जयंती कार्यक्रम में नहीं पहुंचे. यहां तक कि कोई मंत्री भी वहां मौजूद नहीं था.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *