यूपी के DGP ओपी सिंह का बड़ा बयान, बुलंदशहर हिंसा एक बड़ा षड्यंत्र

लखनऊ। यूपी के DGP ओपी सिंह ने बुलंदशहर में हुई हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया है।
DGP ओपी सिंह ने कहा, ‘बुलंदशहर हिंसा एक बड़ा षड्यंत्र था। वहां जो हुआ, वह सिर्फ लॉ ऐंड ऑर्डर का मुद्दा नहीं था, बल्कि साजिश थी। वहां पर गायें कैसे पहुंचीं? उन्हें कौन और क्यों लाया था? किन परिस्थितियों में वे पाई गईं? कई सारे सवाल इस घटना को लेकर उठ रहे हैं। इस घटना को 6 दिसंबर से पहले अंजाम दिया गया और इससे साजिश की बू आ रही है। अभी तक पुलिस जांच पर चल रही थी। अब रिवर्स पुलसिंग पर चलेंगे।’ वहीं, यूपी सरकार ने भी इस घटना के पीछे किसी साजिश की आशंका जताई है।
DGP ने सवाल उठाए कि आखिर ऐसी क्या बात थी कि इस घटना को लेकर बुलंदशहर और 3 दिसंबर को ही चुना गया? वहां गायें कैसे आईं? उन्हें किसने काटा? उनके पीछे क्या कारण था? यहां तक कि सबसे बड़ा सवाल यह है कि एक ही जगह पर इतना गोमांस कैसे आया?
DGP ने कहा कि इस घटना पर पुलिस और एसआईटी की जांच चल रही है। इसके अलावा उन्होंने एक और टीम जांच में लगाई है। जो घटना की जांच साजिश के ऐंगल से कर रही है। उन्होंने कहा कि यह सब जानबूझकर 6 दिसंबर से पहले किया गया।
गौरतलब है कि यूपी में बुलंदशहर के स्याना गांव में गोकशी के शक में भड़की हिंसा और इंस्पेक्टर सुबोध कुमार समेत दो लोगों की मौत के बाद भी कई सवालों के जवाब अब तक नहीं मिले हैं। आखिर वहां गोकशी की अफवाह किसने फैलाई? इतनी तादाद में भीड़ कहां से आई? भीड़ के हाथों में हथियार किसने दिए? पुलिस वालों के खिलाफ भीड़ को उकसाने का आरोपी योगेश राज अब तक क्यों फरार है…?
अधिकारियों को सख्त निर्देश
इधर, यूपी सरकार के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर हिंसा मामले में अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि एक अभियान चलाकर माहौल खराब कर रहे तत्वों को बेनकाब किया जाए। साथ ही इस प्रकार की साजिश रचने वालों के खिलाफ प्रभावी कार्यवाही की जाए।
शिवसेना का बीजेपी पर गंभीर आरोप
इस बीच शिवसेना ने कहा कि जिस सुबोध कुमार सिंह नामक पुलिस अधिकारी की इस हिंसा में बलि चढ़ी है, उसके भाई और बहनों ने कई आरोप लगाए हैं। 2015 में उत्तर प्रदेश के दादरी में हुई अखलाक की हत्या की तफ्तीश उन्होंने ही की थी। शिवसेना ने सवाल किया, ‘बुलंदशहर में गोहत्या की आशंका के चलते जो हिंसा हुई, उसमें भी ऐसा ही कुछ हुआ है क्या?’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »