#MeToo मूवमेंट पर बोले बिग बी, महिलाओं के खिलाफ नहीं होना चाहिए दुर्व्यवहार

मुंबई। #MeToo मूवमेंट के दौरान जब बॉलिवुड के कई दिग्गजों पर सेक्शुअल हैरसमेंट के आरोप लग रहे हैं तो सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने भी इस मसले पर अपनी बात रखी है। अपने जन्मदिन से ठीक एक दिन पहले दिए गए एक इंटरव्यू में अमिताभ ने वर्क प्लेस खासकर एंटरटेनमेंट बिजेनेस में महिलाओं के सेक्शुअल हैरसमेंट के हालिया मामलों पर भी टिप्पणी की है। अमिताभ ने कहा है कि किसी भी महिला के साथ किसी भी प्रकार का दुर्व्यवहार या अपमानजनक आचरण नहीं होना चाहिए।
अमिताभ से पूछा गया था कि वह महिलाओं और कमजोर तबके के खिलाफ हो रहे अत्याचारों को कैसे देखते हैं? बिग बी से सवाल किया गया था कि आज वर्कप्लेस खासकर एंटरटेनमेंट बिजनेस में सेक्शुअल हैरसमेंट का मुद्दा बहुत बड़ा है। अमिताभ ने कहा कि ऐसे कृत्यों को तुरंत संबंधित अधिकारियों के नोटिस में लाया जाना चाहिए। शिकायत दर्ज कराकर या कानून का सहारा लेकर तुरंत सुधारात्मक कदम उठाए जाने चाहिए।
अमिताभ ने सुझाए उपाय
अमिताभ बच्चन ने महिलाओं के प्रति इस तरह के व्यवहार को रोकने के लिए उपाय भी सुझाए। उन्होंने कहा कि सामाजिकता, नैतिकता, अनुशासन के पाठ्यक्रम को बेहद शुरुआती प्रारंभिक शिक्षा के स्तर पर ही शामिल किया जाना चाहिए। अमिताभ ने कहा कि महिलाएं, बच्चे और समाज के कमजोर वर्ग के विशेष सुरक्षात्मक देखभाल की जरूरत है।
अमिताभ ने कहा कि यह देखना उत्साहजनक है कि वर्कप्लेस पर महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ रहा है। ऐसे में हम अगर अनुरूप उनका स्वागत नहीं कर पाए या उनकी गरिमा की सुरक्षा नहीं कर पाए तो यह एक कभी न मिटने वाले कलंक जैसा होगा।
आपको बता दें कि मी टू मूवमेंट में महिलाएं वर्क प्लेस या कहीं भी खुद के साथ हुए सेक्शुअल हैरसमेंट के मामलों को सोशल मीडिया पर सामने ला रही हैं। भारत में इसकी शुरुआत बॉलिवुड ऐक्ट्रेस तनुश्री दत्ता ने तब किया जब उन्होंने नाना पाटेकर पर यौन शोषण के आरोप लगाए। इसके बाद इस तरह के आरोपों की लंबी फेहरिस्त सामने आई। अबतक क्वीन मूवी के डायरेक्टर विकास बहल, ऐक्टर आलोक नाथ, सिंगर कैलाश खेर जैसे नामों पर आरोप लगे हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »