Sadhvi Pragya को चुनाव लड़ने से रोकने की कोशिशें नाकाम, याचिका निरस्त

मुंबई। भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रही Sadhvi Pragya को बड़ी राहत मिली है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के विशेष न्यायालय ने Sadhvi Pragya को चुनाव लड़ने से रोकने की याचिका को निरस्त कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि चुनाव के दौरान किसी को चुनाव लड़ने से रोकने का अधिकार चुनाव आयोग का है न कि कोर्ट का।

चुनाव लड़ने के साध्वी प्रज्ञा के अधिकार पर दलील देते हुए उनके वकील ने कोर्ट में कहा कि वह यह बताने के लिए चुनाव लड़ रही हैं कि देश में हिंदू आतंकवाद जैसी कोई चीज नहीं है। उन्होंने कहा कि साध्वी देश और विचारधारा के लिए चुनाव लड़ रही हैं।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के चुनाव लड़ने पर रोक लगाने वाली मांग की याचिका पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) से जब इसपर अपना रुख सपष्ट करने को कहा तो NIA ने कहा कि यह मामला चुनाव आयोग के अधिकार क्षेत्र का है।

साध्वी के वकील ने उनको दी गई जमानत का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें जमानत सिर्फ बीमारी के आधार पर नहीं मिली है बल्कि मैरिट के आधार पर मिली है। और वह बीमार होने के बावजूत चुनाव प्रचार कर रही हैं तो इसका मतलब ये नहीं कि वे पूरी तरह स्वस्थ हैं, उनकी सेहत पहले से ठीक है लेकिन एक डॉक्टर हमेशा उनके साथ रहता है। वकील ने कहा कि साध्वी के खिलाफ याचिका गलत इरादे से दायर की गई है।

Sadhvi Pragya मालेगांव धमाकों में आरोपी हैं और धमाकों में मारे गए एक व्यक्ति के पिता सैयद बिलाल ने विशेष NIA न्यायालय में साध्वी के चुनाव लड़ने पर रोक लगाने के लिए याचिका दायर की थी। लेकिन न्यायालय ने याचिका को अब निरस्त कर दिया है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »