ED की बड़ी कार्यवाही: संदेसरा ग्रुप की 4701 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त

नई दिल्ली। 5 हजार करोड़ रुपये के बैंकिग घोटाले के आरोपों का सामना कर रहे संदेसरा ग्रुप के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ED ने बड़ी कार्यवाही की है। नीरव मोदी प्रकरण के बाद बैंक फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के इस बड़े मामले में ED ने संदेसरा ग्रुप की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक की 4701 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है। इनमें 300 बैंक अकाउंट, 300 शेल कंपनियां सीज की गईं हैं। जब्त की गई संपत्ति में करीब 4000 एकड़ जमीन भी है। संदेसरा ग्रुप के मालिकान को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल का करीबी माना जाता है।
आपको बता दें कि संदेसारा ग्रुप पर लगे बैंकिंग फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग मामले की आंच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और उनके परिवार तक भी आ चुकी है।
संदेसरा ग्रुप के एक कर्मचारी सुनील यादव ने ED को दिए बयान में अहमद पटेल के बेटे फैजल पटेल और दामाद इरफान सिद्दीकी का भी नाम लिया है। यादव ने ED को दिए बयान में आरोप लगाया है कि संदेसरा ग्रुप के मालिक चेतन संदेसरा और उनके सहयोगी गगन धवन ने सिद्दीकी को कई बार 15-20 लाख रुपये दिए।
आपको बता दें कि अहमद पटेल सोनिया गांधी के राजनीति सलाहकार रहे हैं। संदेसरा ग्रुप ने तब ED को दिए अपने लिखित बयान में इस बात का जिक्र किया था कि चेतन संदेसरा अक्सर अहमद पटेल के घर (23, मदर क्रेसंट, नई दिल्ली) जाया करते थे और संदेसरा द्वारा इसे ‘हेडक्वॉर्टर 23’ बताया जाता था। यादव ने बताया कि सिद्दीकी को संदेसरा जे2 और फैजल पटेल को जे1 बुलाते थे। यादव का बयान प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के सेक्शन 50 के तहत रिकॉर्ड किया गया था।
बैंकिंग फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में ED के समन के बावजूद चेतन संदेसरा अबतक जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए हैं। हालांकि गगन धवन को गिरफ्तार किया जा चुका है। आपको बता दें कि नीरव मोदी केस समेत बैंकिंग फ्रॉड के कई हजारों करोड़ के मामले सामने आने के बाद कांग्रेस मोदी सरकार पर हमलावर रही है। राहुल गांधी मोदी सरकार पर नीरव मोदी और मेहुल चौकसी जैसे बैंकिंग फ्रॉड के आरोपियों की मदद का आरोप लगाते रहे हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »