बड़ा फैसला: नोएडा के सेक्टर-123 से हटाया जाएगा डंपिंग ग्राउंड

नोएडा। सेक्टर-123 में बन रहे डंपिंग ग्राउंड पर उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए उसे वहां से हटाने का ऐलान किया है। इस डंपिंग ग्राउंड के विरोध में बड़ी तादाद में लोग प्रदर्शन कर रहे थे। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही इसका इशारा कर चुके थे।
मिली जानकारी के मुताबिक गुरुवार रात को लखनऊ में सीएम ने एक मीटिंग की थी। उसमें उन्होंने नोएडा अथॉरिटी के सीईओ आलोक टंडन को फटकार लगाई। योगी ने साफ कहा कि वहां आज से ही कूड़ा डालना बंद कर दिया जाए और लोगों के गुस्से को शांत किया जाए। आगे से कूड़ा असतोली में डालने की बात कही जा रही है।
काम आया ‘विरोधासन’
योग दिवस पर करीब ढाई हजार लोगों ने सेक्टर-123 में मास्क लगाकर योग किया था। लोगों का कहना था कि मोदी जी, नोएडा अथॉरिटी हमें दे रही है रोग इसलिए हम मास्क लगाकर कर रहे हैं योग। मौजूद लोगों ने कहा था, ‘हम इस मुहिम (योग) में आपके साथ हैं, लेकिन हम मास्क और ऑक्सीजन सिलिंडर लगाकर योग करने के लिए मजबूर हैं क्योंकि नोएडा अथॉरिटी ने हमारे घरों के सामने डंपिंग ग्राउंड बनाकर यहां आबोहवा में जहर घोल दिया है। यहां इतनी बदबू है कि बिना मास्क के 10 मिनट भी खड़े होना मुश्किल है। हमारी मजबूरी और कोई सुनने समझने को तैयार नहीं।
इससे पहले डंपिंग ग्राउंड के विरोध में आसपास के गांवों ने महापंचायत की थी, जिसमें 3000 के करीब लोग जुटे थे। विरोध कर रहे 117 लोगों ने गिरफ्तारी भी दी थी। उन्होंने यह भी कहा था कि फैसला वापस नहीं लिए जाने तक वे रोज जेल जाने को तैयार हैं। इस विरोध की गूंज सीएम योगी आदित्यनाथ के कानों तक भी पहुंची थी।
योगी ने गाजियाबाद में कूड़ा संघर्ष समिति के लोगों के साथ हुई मीटिंग में कहा था कि इस मुद्दे का हल नोएडा अथॉरिटी को पब्लिक के साथ बैठकर बातचीत से निकालना चाहिए। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया था कि कूड़ाघर आबादी से दो किमी. दूर होना चाहिए। इस डंपिंग ग्राउंड के चलते राज्य की बीजेपी सरकार का भी विरोध हो रहा था, जिसपर योगी ने कहा था कि कोई भी ऐसा काम नहीं किया जाएगा जो जनविरोधी हो और पब्लिक को उससे तकलीफ हो।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »