भीमा-कोरेगांव हिंसा: DU के प्रोफेसर हनी बाबू के घर पर NIA का छापा

नोएडा। भीमा-कोरेगांव मामले में गिरफ्तार दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हनी बाबू के नोएडा सेक्टर-78 स्थित घर पर रविवार को NIA ने छापेमारी की।
जानकारी के मुताबिकस रविवार सुबह साढ़े सात बजे जांच एजेंसी की टीम हनी बाबू के घर पर पहुंची। यह छापेमारी तकरीबन एक घंटे तक चली।
हनी बाबू उत्तर प्रदेश के नोएडा-78 की हाइड पार्क सोसाइटी के सी-ब्लॉक फ्लैट में रहते हैं। उन्हें भीमा कोरेगांव-एल्गार परिषद मामले में 28 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था। वह 4 अगस्त तक के लिए NIA की हिरासत में रहेंगे। 54 साल के हनी बाबू दिल्ली विश्वविद्यालय के अंग्रेजी भाषा विभाग में सहायक प्रोफेसर हैं। प्रोफेसर हनी बाबू की गिरफ्तारी के खिलाफ उनकी पत्नी जेनी रोवेना ने अदालत में मुकदमा लड़ने की चेतावनी दी है। दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के मिरांडा हाउस में पढ़ाने वाली रोवेना को बीते मंगलवार शाम करीब साढ़े पांच बजे अपने पति की गिरफ्तारी का पता चला था।
क्या हैं आरोप
NIA का आरोप है कि डीयू के अंग्रेजी विभाग में असोसिएट प्रोफेसर हनी बाबू मुसालियरवीट्टिल थारियाल ने भीमा कोरेगांव-एल्गार परिषद मामले में नक्सली गतिविधियों और माओवादी विचारधारा को बढ़ावा दिया तथा मामले में वह ‘सह-षड़यंत्रकारी’ थे। हनी बाबू ‘कमेटी फॉर द डिफेंस एंड रिलीज ऑफ जीएन साईंबाबा’ के सदस्य भी हैं। माओवादियों से जुड़ाव के आरोप में डीयू के पूर्व प्रोफेसर साईंबाबा उम्रकैद की सजा काट रहे हैं।
क्या है मामला
यह मामला साल 2017 का है। पुणे के शनिवारवाड़ा में कबीर कला मंच द्वारा आयोजित एल्गार परिषद में भड़काऊ भाषण होने के बाद जातीय हिंसा हुई। इसकी वजह से जानमाल की काफी क्षति हुई। बाद में इस पूरे मामले को लेकर महाराष्ट्र में प्रदर्शन हुए। हनी बाबू के अलावा मामले में 12 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *