अलवर गैंगरेप के खिलाफ जयपुर में भीम आर्मी का प्रदर्शन, गहलौत का इस्‍तीफा मांगा

जयपुर। राजस्थान के अलवर में पति के सामने ही दलित महिला से गैंगरेप की शर्मनाक और भयावह वारदात के बाद विरोध प्रदर्शन का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को राजधानी जयपुर में भीम आर्मी ने घटना के विरोध में प्रदर्शन किया। भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर की अगुआई में बड़ी संख्या में आए कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए।
गुरुवार को तपती दोपहरी में भीम आर्मी के सदस्यों ने जयपुर की सड़कों पर बड़ी संख्या में उतरकर प्रदर्शन किया। इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिस दस्ता मौजूद रहा। बीजेपी ने गैंगरेप की घटना के विरोध में प्रदर्शन करते हुए सीएम अशोक गहलोत के इस्तीफे की मांग की थी। बता दें कि राजस्थान के अलवर जिले के थानागाजी थाना क्षेत्र में एक महिला के साथ पांच आरोपियों द्वारा पति के सामने सामूहिक दुष्कर्म कर वारदात का विडियो वायरल किया गया।
इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के लिए पति को चुनाव प्रक्रिया खत्म होने का इंतजार करने को कहा था। अलवर पुलिस दलित महिला के साथ 3 घंटे तक हुए गैंगरेप पर पर्दा डालने में लगी थी। अलवर पुलिस ने राज्‍य के आला पुलिस अधिकारियों को भी इस दरिदंगी के बारे में पूरी जानकारी नहीं दी जबकि घटना का विडियो जंगल में आग की तरह सोशल मीडिया में फैल गया था। इस बीच गैंगरेप के खिलाफ जयपुर में जोरदार विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं।
पुलिस अधीक्षक पर हुई कार्यवाही
अलवर पुलिस अधीक्षक राजीव पचार को बुधवार को हटाकर एपीओ किया गया और थानाधिकारी को निलंबित कर चार पुलिस कर्मियों को पुलिस लाइन भेजा गया। राज्य के पुलिस महानिदेशक कपित गर्ग ने बताया कि अभी तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इंद्रराज गुर्जर और कैलाश गुर्जर दुष्कर्म के आरोपी हैं जबकि तीसरे आरोपी मुकेश गुर्जर ने वीडियो बनाकर इसे सोशल मीडिया पर वायरल किया है।
आरोपी मुकेश गुर्जर को आईटी ऐक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया है। आरोपी इंद्रराज और कैलाश को मंगलवार रात गिरफ्तार किया गया जबकि मुकेश को बुधवार को गिरफ्तार किया गया। इस बीच राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने बुधवार को राज्य सरकार को नोटिस जारी कर इस मामले में 6 सप्ताह में रिपोर्ट मांगी है।
बीजेपी ने लगाया गहलोत सरकार पर आरोप
मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर ऐक्शन लेते हुए आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है। उधर, विपक्षी बीजेपी ने सरकार पर चुनाव के दौरान राजनीतिक कारणों से जानबूझकर मामले को छिपाने का आरोप लगाया है, जिसे सत्तारूढ़ कांग्रेस ने खारिज कर दिया है। इसके साथ ही कांग्रेस ने कहा है कि आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी ने कहा कि यह एक बहुत ही गंभीर और शर्मनाक घटना है। चुनाव के दौरान राजनीतिक कारणों से सरकार ने इसे छिपाए रखा। पार्टी गुरुवार को सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगी।
सीएम गहलोत के इस्तीफे की मांग
बीजेपी के राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की है और मामले की सीबीआई से जांच कराने की भी दरख्वास्त लगाई है। मीणा ने अपनी मांगों को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक पत्र लिखा है। राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। मामले का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और अन्य आरोपियों की तलाश के लिए 14 दलों का गठन किया गया है।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी घटना की कड़े शब्दों में निंदा की है। दूसरी ओर अलवर, दौसा, जयपुर, चुरू सहित राज्य के अन्य कई क्षेत्रों में घटना के विरोध में कई लोगों ने बुधवार को रैलियां निकालीं और आरोपियों को मृत्यु दंड देने की मांग की। राजस्थान में दूसरे चरण की 12 लोकसभा सीटों में से अलवर में 6 मई को चुनाव हुए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »