तमाम आदेश-निर्देशों के साथ भीम आर्मी प्रमुख को मिली जमानत

नई दिल्‍ली। दिल्‍ली की कोर्ट ने भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर को जमानत दे दी है। कोर्ट ने जमानत देने के वक्‍त एक उन्‍हें यह निर्देश भी दिया है कि वह चार हफ्ते तक दिल्‍ली शहर से बाहर रहेंगे। इसी शर्त के साथ उन्‍हें जमानत कोर्ट ने दी है। इसके अलावा सहारनपुर थाने में हर हफ्ते हाजिरी देनी होगी। वहीं उन्‍हें दिल्‍ली के शाहीनबाग नहीं जाने का निर्देश दिया गया है। कोर्ट ने चंद्रशेखर को कई शर्तों के साथ जमानत देते हुए यह भी कहा कि वह प्रधानमंत्री का सम्मान करें।
क्‍यों हुई थी गिरफ्तारी
भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर की गिरफ्तारी सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के कारण हुई थी। इसी प्रदर्शन के दौरान दरियागंज में काफी हिंसा हुई थी।
दिल्‍ली में दो जगहों पर लगातार हो रहा प्रदर्शन
देश में जब से सीएए और एनआरसी की बात शुरू हुई है तब से उसका विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। हालांकि, कुछ जगहों पर होने वाले प्रदर्शन बंद हो गए हैं मगर दिल्‍ली की बात करें तो जामा मस्‍जिद और शाहीन बाग में हर दिन कुछ-न-कुछ विरोध प्रदर्शन के तौर पर हो रहा है।
शाहीन बाग में लगातार चल रहा प्रदर्शन
शाहीन बाग में 15 दिसंबर से 2019 से सीएए और एनआरसी को लेकर विरोध प्रदर्शन चल रहा है। ऐसे में इस रास्ते से लाखों लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। रास्ता बंद होने के चलते नोएडा की तरफ जाने-आने के लिए लोग डीएनडी रास्ते का उपयोग कर रहे हैं। इससे ट्रैफिक की समस्या भी बढ़ रही है। बीते दिनों में सरिता विहार के कुछ लोगों ने शाहीन बाग का रास्ता खुलवाने को लेकर पैदल मार्च भी निकाला। यही नहीं रास्ता खुलवाने को लेकर कुछ लोगों ने विरोध प्रदर्शन भी किया। इस दौरान पुलिस का लाठीचार्ज भी करना पड़ा था। फिलहाल मंगलावर को दिल्ली हाई कोर्ट में इस मामले को लेकर सुनवाई हुई। कोर्ट ने साफ कह दिया है कि पुलिस देश में कानून-व्‍यवस्‍था को ध्यान में रखते हुए इस विषय पर काम करे। चंद्रशेखर पर दिल्ली के साथ-साथ इससे सटे राज्य उत्तर प्रदेश में भी कई संगीन मामले दर्ज हैं। उन पर सहारनपुर में बड़ी हिंसा का भी आरोप है, जिसमें वह लंबे समय तक जेल में भी रहे। इस दौरान हालत खराब होने पर चंद्रशेखर का अस्पताल में भी रहना पड़ा था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *