मोक्ष के लिए बाँके बिहारी की शरण आए- आचार्य गोपाल भईया

आगरा। विजय नगर कॉलोनी स्थित अभिनंदन पुरुषोतम ग्रीन में मिलन बैंड परिवार के सौजन्य से श्रीमद्भागवत के दूसरे दिन बुधवार को कपिलोपाख्यन, धुर्व-चरित्र और जड़भरत चरित का वर्णन किया गया | भागवत कथा सुनने के लिए पुरुषो की अपेक्षा महिला श्रोताओ मे भक्ति का उत्साह अधिक देखने को मिला | व्यास आचार्य गोपाल भईया के कथावचन के दौरान पूरा हॉल जय श्री राधे के जयकारों से गुंजायमान हो उठा । कथा के मुख्य यजमान रमा देवी शर्मा, धर्मेंद्र शर्मा, मोहिनी शर्मा, सुनील शर्मा, रानी शर्मा, भरत शर्मा, वर्षा शर्मा रहे| भागवत कथा के दूसरे दिन कथा व्यास आचार्य गोपाल भईया के मुखारविंद से ”मेरा कोई न सहारा बिन तेरे, नंदलाल सवारिया मेरे” भजन से कथा स्थल का वातावरण भक्ति मे सराबोर हो गया|

व्यास आचार्य गोपाल भईया ने बताया कि जिस प्रकार हर त्योहार पर हम अपने लिए समान लाते है क्या उसी प्रकार हम भगवान के लिए भी कुछ दिल से खरीद कर लाते है अगर हम ठाकुर जी के लिए उसी प्रेम से समान लाएँगे तो वो भी हमे वही प्यार देंगे| जिसको मोक्ष्य चाहिए वो सिर्फ बाँके बिहारी की शरण मे आ जाए उसे इधर-उधर भागने की जरूरत नहीं है| पवित्र आत्माऐं चाहे वे जिस धर्म की हो इनको केवल अव्यक्त अर्थात् एक ओंकार परमात्मा की पूजा का ही ज्ञान पवित्र शास्त्रों जैसे पुराणों, वेदों, गीता आदि नामों से हो पाया क्योंकि इन सर्वशास्त्रों में ज्योति स्वरूपी प्रकाशमय परमात्मा ब्रह्म की ही पूजा विधि का वर्णन है, जिसमें श्रीमद भागवत कथा पुराण मानव जीवन जीने की कला सिखाती है इसलिए जहां भी श्रीमदभागवत कथा हो रही हो उसे ध्यानपूर्वक सुनना चाहिए। भागवत कथा का समापन आरती के बाद हुआ| इस अवसर पर प्रमुख रूप से राहुल बंसल, राज परिहार, अखिल बंसल, सतीश अग्रवाल, दिनेश अग्रवाल, संदीप अग्रवाल, सुभि गोयल, सीमा सिंघल, उमा अग्रवाल, कौशकी अग्रवाल, मधु गोयल, हर्ष, आर्य, गौरी, नंदनी, नेहा, अंकिता आदि मौजूद रहे|

भागवत कथा मे आज

मीडिया प्रभारी अशोक गोयल ने बताया कि तीसरे दिन गुरुवार को बलि-वामन प्रसंग, मोहिनी अवतार एंव प्रहलाद चरित्र की कथा का वर्णन किया जाएगा| भागवत कथा निरंतर 15 मई तक दोपहर 2 से शाम 6 बजे तक चलेगी। कथा के समापन पर भक्तों को भोजन प्रसादी वितरित की जाएगी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »