मंगल Kalash Yatra से हुआ भागवत कथा का शुभारंभ

आगरा। श्रीमद्भागवत कथा से पूर्व निकाली गई Kalash Yatra से वातावरण भक्तिमय हो गया। आज कमला नगर स्थित अग्रसेन सेवा सदन में शुरू हो रही श्रीमद्भागवत कथा से पूर्व 151 कलशों के साथ पीताम्बर परिधान पहने महिलाओं व पुरुषों ने उत्साह व उमंग के साथ Kalash Yatra में भाग लिया । Kalash यात्रा जिस मार्ग से निकली, वहां देखने व स्वागत करने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। कलश यात्रा में शामिल महिला-पुरुषों का उत्साह देखते ही बन रहा था। सभी जयकारे लगाते हुए चल रहे थे। नाचते गाते भक्तों संग कलश यात्रा अग्रसेन सेवा सदन पर पहुंची । Kalash Yatra का जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। बग्घी पर विराजमान व्यासपीठासीन साध्वी माँ ध्यान मूर्ति जी आशीर्वाद देते चल रही थी।
भागवत कथा का आयोजन महाराजा अग्रसेन सेवा सदन कमला नगर द्वारा कराया जा रहा है जो कि सोलह सितंबर तक दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक चलेगी। कथा के मुख्य यजमान अतुल बंसल एंव आस्था बंसल है।
भागवत कथा के प्रथम दिन
कथा के प्रथम दिन कथावाचक व्यासपीठासीन साध्वी माँ ध्यान मूर्ति जी के मुखारविंद से कथा स्थल पर श्रीमद भागवत महात्म्य कथा एवं श्री शुकदेव आगमन तथा विदुर कथा से वातावरण भक्ति मे सराबोर हो गया। उन्होंने श्रीमद् भागवत कथा का संक्षेप में श्रोताओं को सार बताते हुए कहा कि मनुष्य के जन्म जन्मांतर के पुण्यों का उदय होने पर ही श्रीमद् भागवत जैसी भगवान की दिव्य कथा श्रवण का सौभाग्य मिलता है। भागवत रूपी गंगा की धारा पवित्र और निर्मल है जो पापियों को भी तार देती है। मिडिया प्रभारी विमल कुमार ने बताया कि आज कपिलोपाख्यान एवं ध्रुव- चरित्रादि का वर्णन किया जाएगा।
भागवत कथा के कार्यक्रम 
10 सितम्बर को कपिल उपाख्यान, ध्रुव कथा, 11 सितम्बर को अजामिल उपाख्यान, भक्त प्रहलाद पर भगवान की कृपा, वामन कथा, 12 सितम्बर को श्रीराम कथा, श्रीकृष्ण जन्म, नंदोत्सव, 13 सितम्बर को कृष्ण की बाललीला, मटकी फोड़ एवं गोवर्धन पूजा, 14 सितम्बर को महारास, कंसवध, रुक्मिणी-कृष्ण विवाह व 15 सितम्बर को सुदामा चरित, श्री शुकदेव पूजन, परीक्षित मोक्ष तथा 16 सितम्बर को पूर्ण आहुति के साथ भागवत कथा का समापन होगा।
ये रहे मौजूद 
इस अवसर पर प्रमुख रूप से डॉ० अनिल गोयल, दिनेश अग्रवाल, ओमकार नाथ गोयल, राजेश अग्रवाल, प्रमोद अग्रवाल, जेपी अग्रवाल, सुभाष अग्रवाल, संजय अग्रवाल, मनीष गोयल, कन्हैया लाल अग्रवाल, विष्णु भगवान गोयल, नरेंद्र बंसल, डॉ० अशोक गर्ग आदि मौजूद रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »