AMU में बवाल, भाजयुमो कार्यकर्ताओं की पिटाई, महिला मीडियाकर्मी का कैमरा तोडा, बदसलूकी

अलीगढ़। लोकसभा चुनाव से पहले अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) सियासी अखाड़ा बनता जा रहा है। मंगलवार को मुस्लिम फ्रंट बनाने को लेकर AMU में आयोजित बैठक की कवरेज करने आए मीडिया कर्मियों से अभद्रता की गई। एक चैनल की महिला रिपोर्टर से अभद्रता की गई और कैमरा तोड़ दिया गया।इसके अलावा एक हिंदी समाचा पत्र के फोटोग्राफर से कैमरा छीन लिया गया। इस दौरान जमकर हंगामा हुआ।

AMU (अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय) के दो सामुदाय के छात्र गुट आपस में भिड़ गए। जिसके बाद विवाद बढ़ गया। भाजपा और भाजयुमो कार्यकर्ताओं को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने का मामला सामने आया है।

एसएसपी ने कार्रवाई करने का आश्‍वासन दिया है।खास बात यह है कि इस बैठक में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी को आना था लेकिन विरोध के चलते वे नहीं आए।

एएमयू में छात्रनेता अजय सिंह ने किया विरोध
एएमयू छात्र यूनियन की ओर से बुलाई बैठक में कई मुस्लिम दलोँ के नेता शामिल हुए। मुस्लिम फ्रंट बनाने के लिए बैठक सुबह शुरू हो गई । उवैसी के आने की संभावना के चलते एएमयू में छात्रनेता अजय सिंह छात्रों के साथ ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन उवैसी के विरोध में सर्किल चौराहा पर पहुंच गए। पुलिस व प्रशासन भी सक्रिय हो गया। अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के आने की संभावना के चलते वाहनों में कई चेकिंग।

हंगामे की वीडियो देखकर होगी कार्रवाई
एसएसपी आकाश कुलहरि ने कहा है कि हंगामे की वीडियो की उनके पास हैं। उसे देखने के बाद निश्‍चित रूप से कार्रवाई होगी और मुकदमा भी दर्ज होगा।

गठबंधन को दी ‘ठगबंधन’ की संज्ञा
सपा-बसपा गठबंधन का एलान करने के बाद से तमाम छात्र नाराज हैं। छात्रसंघ ने गठबंधन को ‘ठगबंधन’ तक की संज्ञा दी है। छात्रसंघ उपाध्यक्ष हमजा सूफियान का कहना है कि सपा व बसपा ने 38-38 सीटों पर चुनाव लडऩे का एलान किया है। दो सीटें कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व संरक्षक सोनिया गांधी के लिए छोड़ी हैं। कांग्रेस के खिलाफ गठबंधन चुनाव लड़ेगा। बसपा व सपा ने मुस्लिम पार्टियों के लिए एक भी सीट नहीं छोड़ी। यह तो मुस्लिमों के लिए छलावा है।

मुस्लिम फ्रंट से बनी रणनीति

यूनियन हॉल में पिछले शनिवार को मुस्लिम राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई गई थी, जिसमें मुस्लिम फ्रंट बनाने पर सहमति बनी थी। मीटिंग में पीस पार्टी, इंडियन नेशनल लीग, राष्ट्रीय ओलमा काउंसिल, भारतीय मजलिस, आइआरपीएफ, परचम पार्टी, नेशनल अमन पार्टी, एसडीपीआइ, नेशनल लोकतांत्रिक पार्टी, इंडियन मुस्लिम राबिता काउंसिल आदि दलों के नेता शामिल हुए। मीटिंग के लिए हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी समेत 18 से अधिक दलों के नेताओं को पांच फरवरी को ही पत्र लिखा जा चुका है।

बताया जा रहा है कि विवाद में फायरिंग भी हुई है। एएमयू सर्किल के पास माहौल तनावपूर्ण हो गया है। एसपी सिटी, सीओ, समेत जिले के कई वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर मौजूद हैं।

दरअसल, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय छात्रसंघ द्वारा आयोजित मुस्लिम फ्रंट सम्मेलन में एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी के आने की संभावना के चलते अमुवि छात्र नेता अजय सिंह छात्रों के साथ उनके विरोध में सर्किल चौराहा पर पहुंचे। इस दौरान छात्रनेता ने अन्य छात्रों के साथ अमुवि परिसर के अंदर विरोध प्रदर्शन किया।

हालांकि बाद में पुलिस ने समझाकर उन्हें उठा दिया। लेकिन कुछ देर बाद एक ग्रुप ने भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता की पिटाई कर दी।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »