बार एसोसिएशन मथुरा ने अपने संविधान में किए दो महत्‍वपूर्ण संशोधन

मथुरा। बार एसोसिएशन मथुरा में अब किसी भी पद पर दो बार निर्वाचित सदस्‍य भी, उसी पद पर पुन: प्रत्‍याशी हो सकेगा। इसके साथ ही एसोसिएशन ने बार के संविधान में पांच वर्ष तक संशोधन न किए जाने का प्रावधान भी हटा दिया है।
बौहरे कन्‍हैयालाल हॉल में आज बुलाई गई बार एसोसिएशन मथुरा की साधारण सभा के दौरान उक्‍त दोनों प्रस्‍तावित संशोधनों को सर्वसम्‍मति से स्‍वीकार किया गया।
इससे पहले सभाकक्ष में संविधान समीक्षा समिति के संयोजक प्रदीप राजपूत ने संविधान में प्रस्‍तावित संशोधनों को तर्कपूर्ण ढंग से सदन के सामने रखा।
इसके उपरांत समीक्षा समिति के सदस्‍य ठा. प्रहलाद सिंह तरकर और मोहम्‍मद यामीन खान ने प्रस्‍तावित संशोधनों पर अपना मत प्रकट किया।
इसके अलावा साधारण सभा में यह विचार भी रखा गया कि बायोमेट्रिक मशीन पर अधिवक्‍ताओं की 50 प्रतिशत अनिवार्य उपस्‍थित का नियम निरस्‍त किया जाए और नए अधिवक्‍ताओं से सदस्‍य बनने के आगामी तीन वर्षों तक कोई सदस्‍यता शुल्‍क भी न लिया जाए।
बैठक का संचालन अध्‍यक्ष अवधेश सिंह चौहान, उपाध्‍यक्ष विजेन्‍द्र सिंह वैदिक, सचिव विशाल सिंह तथा संयुक्‍त सचिव पूजा वर्मा तथा कोषाध्‍यक्ष बृजेन्‍द्र सिंह द्वारा किया गया।
29 अगस्‍त को न्‍यायालय में कार्य करेंगे अधिवक्‍ता
बार एसोसिएशन मथुरा के अध्‍यक्ष के निर्देशानुसार कल यानी 29 अगस्‍त को सभी अधिवक्‍ताओं द्वारा न्‍यायालयों में कार्य किया जाएगा।
-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »