महाराष्ट्र में आज से सभी राजनीतिक, धार्मिक और सामाजिक आयोजनों पर रोक

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने घोषणा की है कि कोविड-19 मामलों में बढ़ोत्तरी को देखते हुए सोमवार से राज्य में सभी राजनीतिक, धार्मिक और सामाजिक आयोजनों में लोगों के इकट्ठा होने पर रोक रहेगी.
टीवी के ज़रिए राज्य की जनता को संबोधित करते हुए ठाकरे ने ये भी कहा कि अगले कुछ दिनों तक राजनीतिक आंदोलनों की अनुमति नहीं दी जाएगी क्योंकि उनमें काफी भीड़ हो जाती है.
उन्होंने कहा, “महामारी राज्य में अपना सिर उठा रही है लेकिन क्या ये एक और लहर है, ये हमें 8 से 15 दिनों में पता चलेगा.”
उन्होंने कहा, “लॉकडाउन कोविड-19 का समाधान नहीं हो सकता, लेकिन वायरस की साइकल को रोकने का ये एकमात्र विकल्प है.”
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड से जुड़े नियमों का पालन करना होगा और नियमों का उल्लंघन करने वालों को सज़ा दी जाएगी.
उनके मुताबिक़, कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ लड़ाई में मास्क ही एकमात्र “शील्ड” है.
ठाकरे ने कहा, “लॉकडाउन से बचने के लिए मास्क पहनिए, अनुशासन बनाइए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करिए.”
इस बीच कोरोना वायरस मरीज़ों की संख्या में बढ़ोत्तरी को देखते हुए महाराष्ट्र के अमरावती और अकोला ज़िलों में एक हफ़्ते के लिए लॉकडाउन लगाया जा रहा है. ये लॉकडाउन एक मार्च तक लागू रहेगा. इन दोनों जगहों पर ज़रूरी सेवाएं जारी रहेंगी.
वहीं केंद्र सरकार ने कोविड मामलों में प्रतिदिन बढ़ोतरी का सामना कर रहे राज्यों को सलाह दी है कि वो आरटीपीसी जांच बढ़ाएं और संबंधित ज़िलों में कड़ी और व्यापक निगरानी के साथ-साथ कठोर नियंत्रण के लिए फिर से ध्‍यान केन्द्रित करें.
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा है कि राष्‍ट्रीय औसत की तुलना में महाराष्‍ट्र, केरल, आंध्र प्रदेश, गोवा और चंडीगढ़ में कोविड के मरीज़ों की साप्‍ताहिक वृद्धि दर अधिक है.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *