अपनी-अपनी पत्‍नियों को टिकट दिलाने में जुटे हैं बाहुबली नेता

नई दिल्‍ली। इन दिनों कई बाहुबली नेता अपनी-अपनी पत्‍नियों को लोकसभा चुनाव का टिकट दिलाने के लिए दिन-रात एक किए हुए हैं। इस दौड़ में सबसे आगे दिखाई दे रहे हैं बिहार के बाहुबली।
सर्वविदित है कि लोकसभा चुनावों के लिए पार्टियों ने अपने-अपने प्रत्याशियों के नामों का ऐलान शुरू कर दिया है। इसी के साथ बिहार के बाहुबली भले ही खुद चुनावी मैदान में ताकत न दिखा पा रहे हों, अपनी पत्नियों को टिकट दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। यहां तक कि जेल में सजा काट रहे आनंद मोहन ने तो चेतावनी तक दे डाली है कि अगर पत्नी को टिकट नहीं मिला तो ठीक नहीं होगा।
काट रहे सजा, गठबंधन को चेतावनी
डॉन से राजनेता बने आंनद मोहन ने राष्ट्रीय जनता दल, कांग्रेस और दूसरी पार्टियों के महागठबंधन को चेतावनी दी है कि अगर आगामी लोकसभा चुनाव में उनकी पत्नी लवली आनंद को शिवहर से टिकट नहीं मिला तो भयानक परिणाम भुगतने पड़ेंगे। सहरसा सिविल कोर्ट में एक केस की सुनवाई के मामले में पहुंचे आंनद ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनकी पत्नी लवली राज्य में कहीं से भी चुनाव लड़कर जीत सकती हैं। आनंद बिहार पीपल्स पार्टी के अध्यक्ष रह चुके हैं। वह गोपालगंज डीएम जी कृष्णैय्या की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा झेल रहे हैं।
जमानत पर अनंत, राहुल की रैली में रहे थे आगे
बाहुबली अनंत सिंह अपनी पत्नी नीलम देवी के लिए मुंगेर से कांग्रेस का टिकट हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने जनता दल (यूनाइटेड) से अपनी राहें अलग कर 2015 में जेल में रहते हुए मोकामा से विधानसभा सीट जीती थी। नीलम ने उस वक्त पति के लिए खूब प्रचार किया था। अनंत फिलहाल जमानत पर हैं। उन्होंने 3 फरवरी को पटना में हुआ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था।
गिरिराज की सीट पर वीणा
अपने धन-बल के लिए मशहूर सूरजभान सिंह उर्फ सूरज सिंह भी अपनी पत्नी वीणा देवी को टिकट दिलाने की कोशिश कर रहे हैं। 2014 में वीणा ने मुंगेर लोकसभा सीट से लोक जनशक्ति पार्टी के टिकट पर जेडी(यू) के राजीव रंजन सिंह उर्फ लल्लन सिंह को हराया था। वीणा इस बार नवाडा से चुनाव लड़ेंगी जहां से केंद्रीय मंत्री गरिराज सिंह 2014 में जीत थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »