आजम खान ने लोकसभा में माफी मांगी, लेकिन रमा देवी संतुष्‍ट नहीं

नई दिल्‍ली। समाजवादी पार्टी (एसपी) सांसद आजम खान महिला सांसद रमा देवी पर अपनी आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर आज लोकसभा में मांफी मांग ली।
आजम ने कहा कि ‘अध्यक्ष जी…जो बात आपके समक्ष मेरे संबंध में आई है, मेरी कोई ऐसी भावना चेयर के प्रति न थी और न हो सकती है। मैं दो बार संसदीय कार्य मंत्री रहा हूं, चार बार मंत्री रहा हूं, नौ बार विधायक रहा हूं, राज्यसभा सदस्य रहा हूं। मेरे भाषण, मेरे आचरण को पूरा सदन जानता है। इसके बावजूद भी चेयर को मेरे प्रति ऐसा लगता है कि मुझसे कोई भावना में गलती हुई है तो मैं क्षमा चाहता हूं।’
हालांकि, रमा देवी इससे संतुष्ट नहीं हुईं और कहा कि आजम खान ने पहली बार ऐसा नहीं बोला बल्कि उनकी यह आदत है। उन्होंने कहा, ‘सदन में आजम खान ने जो बोला उससे पूरे हिंदुस्तान को तकलीफ पहुंची है क्योंकि यह बाहर भी ऐसा ही बोलते रहे हैं। उनकी यह आदत है।’ उन्होंने कहा कि आजम को अपनी आदत सुधारनी होगी।
रमा देवी ने कहा, ‘मैं सदन की वरिष्ठ सांसद हूं। मैं संघर्ष से उठकर, लोगों की आवाज बनकर यहां आई हूं। इस तरह का व्यवहार हमें बर्दाश्त नहीं है।’
बिहार के शिवहर से बीजेपी सांसद रमा देवी ने आजम खान का बचाव करने को लेकर एसपी प्रमुख अखिलेश यादव पर भी बरस पड़ीं।
दरअसल, आजम ने पहली बार में सीधे-सीधे शब्दों में माफी नहीं मांगी तो हंगामा होने लगा। तब सदन में मौजूद अखिलेश, अपने सांसद के बचाव में उतर पड़े। इस पर रमा देवी ने कहा कि आजम खान अपनी बात रख सकते हैं, आप उनकी पैरवी न करें।
आजम ने गुरुवार को लोकसभा की कार्यवाही का संचालन कर रहीं रमा देवी को लेकर अभद्र टिप्पणी की थी। इस पर पूरा सदन और खासकर सत्ता पक्ष लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से एसपी सांसद के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग करने लगा। मामले में खुद रमा देवी ने भी लोकसभा अध्यक्ष से कार्यवाही की मांग की।
आजम खान के सदन में आजम खान के खिलाफ आक्रोश इसलिए बढ़ा क्योंकि उनकी गलत टिप्पणी पर लोकसभा अध्यक्ष के निर्देश को भी नजरअंदाज कर दिया। लोकसभा अध्यक्ष ने हो-हंगामा होते देख आजम से स्पष्ट करने को कहा था कि उनके कहने का गलत तात्पर्य नहीं था और उनके इरादे में कोई खोंट नहीं थी। हालांकि, आजम ने लोकसभा अध्यक्ष की यह नसीहत नहीं मानी और सदन से वॉक आउट कर गए।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »