7 मस्जिदों को बंद करके 60 इमामों को देश से बाहर निकालेगी ऑस्ट्रियाई सरकार

वियना। ऑस्ट्रियाई सरकार ने देश की 7 मस्जिदों को बंद करने का फैसला किया है। इसके अलावा करीब 60 इमामों को देश से बाहर निकाला जा सकता है। बताया जा रहा है कि सरकार ने इस्लाम के राजनीतिकरण और मस्जिदों की विदेशी फंडिंग पर रोक लगाने के लिए ये निर्णय लिए हैं। ऑस्ट्रिया के चांसलर सैबेस्टियन कुर्ज ने शुक्रवार को इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि सरकार विएना में मौजूद एक कट्टरवादी तुर्की राष्ट्रवादी मस्जिद को बंद कर रहा है। इसके अलावा अरब धार्मिक संगठन से जुड़ीं 6 और मस्जिदों को भी बंद किया जा रहा है।
सरकार ने क्यों लिया फैसला?
कुर्ज के मुताबिक सरकार ने ये फैसला धार्मिक मामलों के प्राधिकरण की एक जांच के बाद लिया है।
दरअसल इसी साल अप्रैल में कुछ तस्वीरें सामने आई थीं। इनमें तुर्की से संबंधित मस्जिदों में बच्चों को पहले विश्व युद्ध का एक नाटक प्रदर्शित करते दिखाया गया था, जिसमें लाखों तुर्की नागरिक मारे गए थे। उसकी याद में किए गए नाटक में कई बच्चों ने मरने का अभिनय भी किया था। रिलीज हुई तस्वीरों में बच्चों को तुर्की का झंडा ओढ़े और उसे सैल्युट करते भी दिखाया गया था।
कुर्ज ने इस घटना को इस्लामिक राजनीतिकरण करार देते हुए कहा कि कट्टरता की देश में कोई जगह नहीं है।
40 इमामों की चल रही जांच
बता दें कि ऑस्ट्रिया में 2015 में एक कानून लागू किया गया था, जिसके तहत कोई भी धार्मिक संगठन विदेशों से फंडिंग नहीं ले सकता। इसी नियम के जरिए विदेशों से चंदा पाने वाली मस्जिदों को बंद करने का फैसला लिया गया है।
ऑस्ट्रिया के गृह मंत्री हर्बर्ट किकल ने बताया कि तुर्की-इस्लामिक सांस्कृतिक संगठन (एटीआईबी) के 60 इमामों के होम परमिट की जांच की जा रही है। किकल ने दावा किया कि दो मामलों में परमिटों को खत्म किया जा चुका है, जबकि 5 अन्य इमामों को भी परमिट देने से इनकार कर दिया गया है।
सुधार के वादों के बाद ही कुर्ज को मिली सत्ता
पिछले साल हुए चुनाव में कुर्ज और उनकी सहयोगी पार्टियों ने आव्रजन नीतियों को कड़ा बनाने और धार्मिक कट्टरता को खत्म करने की बात कही थी। माना जाता है कि इन वादों के चलते ही उनके गठबंधन को चुनावों में बड़ी जीत मिली थी।
हाल ही में ऑस्ट्रियाई सरकार ने ऐलान किया था कि वो स्कूलों में पढ़ने वाली बच्चियों के चेहरा ढकने पर भी रोक लगाएगा।
नॉर्वे में स्कूल-यूनिवर्सिटीज में बुर्का-नकाब पर लग सकता है प्रतिबंध
नॉर्वे में नर्सरी, स्कूल और यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली छात्राओं के बुर्का और नकाब पहनने पर रोक लगाने के लिए गुरुवार को संसद में वोटिंग हुई। इसमें 91 सांसदों ने छात्राओं के बुर्का पहनने के विरोध में वोट किया, जबकि सिर्फ 8 सांसदों ने ही इसके पक्ष में वोट किया। माना जा रहा है कि जल्द ही नॉर्वे में इसको लेकर कानून तैयार हो सकता है।
यूरोप के कई देशों में पहले से ही सार्वजनिक जगहों पर बुर्का और नकाब पहनने पर प्रतिबंध है। इनमें जर्मनी, ऑस्ट्रिया, फ्रांस, बेल्जियम, नीदरलैंड्स, डेनमार्क और इटली जैसे देश शामिल हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »