कैबिनेट मिनिस्टर मुख्तार अब्बास नकवी की बहन के अपहरण का प्रयास

बरेली। दिनदहाड़े कैबिनेट मिनिस्टर मुख्तार अब्बास नकवी की बहन फरहत नकवी को कार सवार बदमाशों ने उठाने का प्रयास किया है। घटना शहर के सबसे व्यस्तम चौकी चौराहे पर हुई है। फरहत नकवी तीन तलाक और पीड़ित महिलाओं की लड़ाई लड़ रही है।
थाना किला क्षेत्र के मोहल्ला गढ़ेया की निवासी फरहत नकवी शनिवार को सुबह पीड़ित महिलाओं को लेकर एसएसपी से मिलने गई थी। वहाँ से फरहत परामर्श केंद्र गई और लौटते समय चौकी चौराहे पर जब वह पहुंची तो वहां पीछे से आ रहे हैं कार सवार बदमाशों ने उन्हें उठाने का प्रयास किया। चीख-पुकार के बाद कार सवार बदमाश तेजी से अय्यूब खाँ रोड की तरफ भाग निकले। भागते समय बदमाशों ने देख लेने की धमकी भी दी है। घटना की सूचना मिलने के बाद मुख्तार अब्बास नकवी का पूरा परिवार डरा-सहमा है। फरहत नकवी की तरफ से एसएसपी को घटना के संबंध में तहरीर दी जा रही है। फरहत नक़वी ने बताया कि कार में कितने लोग थे देखा नहीं, मगर ड्राइवर वाली सीट पर बैठे व्यक्ति ने मुझे देख लेने की धमकी दी है।
महिलाओं के लिए लड़ रहीं लड़ाई
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की छोटी बहन फरहत नकवी मेरा हक फाउंडेशन बनाकर तीन तलाक और महिला उत्पीड़न के मामलों को उठाया था। महिलाओं की लड़ाई लड़ने पर उन्हें कई बार धमकियां भी मिल चुकी हैं। फरहत नकवी ने बताया कि घर से लेकर कचहरी मैं कई बार संदिग्ध लोग मेरा पीछा करते रहे। इस संबंध में कई बार पुलिस को मौखिक सूचना दी गई लेकिन इस बार मामला बड़ा है।
अधिवक्ता ने लिखी तहरीर, कमिश्नर को दी सूचना
घटना के बाद फरहत नक़वी ने अपने परिवार के अलावा अधिवक्ता को सूचना दी। अधिवक्ता ने एसएसपी के लिए तहरीर लिखी। इसके बाद फरहत नक़वी ने कमिश्नर से फोन पर बात कर घटना के बारे में जानकारी दी।
तीन तलाक का विरोध करके आईं थी चर्चा में
फरहत नकवी तीन तलाक का विरोध करके चर्चा में आई थीं। इस दौरान कई बार वे निशाने पर भी आ गई थीं। ऐसी महिलाओं को इंसाफ दिलाने के लिए उन्होंने मेरा हक फाउंडेशन नाम से एक संगठन भी बनाया है। तीन तलाक, दहेज पीड़ित महिलाओं की सहायता करती हैं। इस दौरान 100 से अधिक मामलों की वह पैरवी कर रही हैं। हाल ही में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर महिलाओं के कोर्ट में चल रहे मामलों को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन और महिला जजों की नियुक्ति की भी मांग की थी। तीन तलाक पीड़ित महिलाओं को सरकारी सहायता दिलाने और गुजारा भत्ता देने की मांग को लेकर फरहत योगी आदित्यनाथ से भी मिल चुकी है।
-एजेंसी