एशियन गेम्स: विनेश फोगाट ने फ्रीस्टाइल 50 किग्रा वर्ग में गोल्ड मेडल जीता

जकार्ता। पहलवान विनेश फोगाट ने जकार्ता और पालेमबांग में चल रहे 18वें एशियन गेम्स में भारत को गोल्ड मेडल दिलाया। विनेश ने महिलाओं की फ्रीस्टाइल 50 किग्रा वर्ग के खिताबी मुकाबले में जापान की पहलवान यूकी आयरी को से हराया। दूसरे दिन 50 किग्रा. फ्री स्टाइल में भारत की ओर से ताल ठोकते हुए फोगाट ने शानदार प्रदर्शन किया। इंडोनेशिया में चल रहे यह इन एशियाई खेलों का भारत के लिए दूसरा गोल्ड मेडल था।
विनेश की यह उपलब्‍धि इसलिए महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि कुछ दिनों पहले ही विनेश के पिता का मर्डर हुआ था, रियो ओलंपिक में ऐसी चोट लगी कि बिस्तर पर रही पर इस बहादुर बेटी का जज्बा कम नहीं हुआ। पहले कॉमनवेल्थ में और अब एशियन गेम्स में गोल्ड जीतकर इतिहास रचा।
विनेश फोगाट, द्रोणाचार्य अवार्ड विजेता महावीर फोगाट की भतीजी और इंटरनेशनल पहलवान गीता फोगाट की चचेरी बहन हैं। विनेश ने 21वें कॉमनवेलथ गेम्स में 50 किलोग्राम की कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा था। रियो ओलंपिक 2016 में चोट लगने के बाद विनेश फोगाट काफी समय पर बिस्तर पर रहीं, पर इस बहादुर बेटी ने हिम्मत नहीं छोड़ी और फिर से अखाड़े में उतरी। विनेश ने शानदार वापसी की है और नतीजा आज सभी के सामने है।
24 अगस्त 1994 को जन्मीं विनेश, महावीर फोगाट के भाई राजपाल की बेटी है। बताया जा रहा है कि राजपाल का जमीनी विवाद के चलते मर्डर हो गया था। जिसके बाद महावीर फोगाट ने विनेश और उसकी बहन प्रियंक को अपनाया और पहलवानी की ट्रेनिंग दी। विनेश ने भी अपने ताऊ जी का मान रखते हुए इंटरनेशनल लेवल पर एक गोल्ड समेत 8 मेडल जीतकर उनका और देश का नाम रोशन किया है। हाल ही में विनेश ने हंगरी में ट्रेनिंग ली और इसी महीने, अगस्त में स्पैनिश ग्रैंड प्रिक्स जीता।
विनेश ने पहली बार साल 2013 में एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में हिस्सा लिया था। यहां 51 किलोग्राम वर्गभार में ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया था। विनेश फोगाट इससे पहले 48 किलोग्राम वर्ग में खेलती थी, कॉमनलवेल्थ में विनेश 50 किलोग्राम वर्ग में रिंग में उतरी और मेडल जीत लिया। उन्होंने रियो ओलंपिक में हिस्सा लिया था, जिसमें वे चोटिल हो गई थीं, पर हौंसला बढ़ाते हुए सरकार ने उन्हें अर्जुन अवार्ड से नवाजा। 2014 कॉमनवेल्थ में गोल्ड और 2014 एशियन गेम्स में ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »