अरुण जेटली पंचतत्व में विलीन, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्‍कार

पूर्व वित्तमंत्री का पार्थिव शरीर फूलों से सजे एक सैन्य वाहन द्वारा कैलाश कॉलोनी स्थित उनके घर से आज सुबह पंडित दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय लाया गया।
पूर्व वित्तमंत्री का पार्थिव शरीर फूलों से सजे एक सैन्य वाहन द्वारा कैलाश कॉलोनी स्थित उनके घर से आज सुबह पंडित दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय लाया गया।

नई दिल्‍ली। पूर्व वित्तमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली राजनीति, वकालत, खेल और सामाजिक जीवन की तमाम यादों को छोड़कर पंचतत्व में विलीन हो गए हैं। निगमबोध घाट पर दोपहर तीन बजे उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया। बेटे रोहन ने उन्हें मुखाग्नि दी।
इस दौरान उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू, गृहमंत्री अमित शाह, पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के अलावा कांग्रेस सहित अन्य दलों के नेता मौजूद थे।
मुखाग्नि से ठीक पहले मौसम तेजी से बदला और जोरदार बारिश होने लगी। जेटली के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए बीजेपी मुख्यालय से निगम बोध घाट फूलों से सजी तोप गाड़ी में ले जाया जाया गया। पूरा माहौल ‘जेटली जी अमर रहें’ के नारों से गूंज रहा था। पार्टी कार्यकर्ता और शोकाकुल लोग सुबह से ही बीजेपी मुख्यालय के बाहर जेटली को अंतिम श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए कतार में खड़े थे।
निगम बोध घाट की ओर से जाने वाली सड़कों पर जेटली को याद करने वाले पोस्टर लगे हुए थे। 66 वर्षीय जेटली का शनिवार को दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज के दौरान निधन हो गया था। उन्हें 9 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था।
निधन के बाद उनके पार्थिव शरीर को एम्स से दक्षिणी दिल्ली के कैलाश कॉलोनी स्थित उनके आवास में रखा गया था। सुबह उनके पार्थिव शरीर को बीजेपी मुख्यालय लाया गया, जहां बड़ी संख्या में लोग उनके अंतिम दर्शन करने के लिए पहुंचे।
इससे पहले पूर्व वित्त मंत्री दिवंगत अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को आज सुबह अंतिम दर्शन के लिए बीजेपी मुख्यालय लाया गया। यहां गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित पार्टी सहित पार्टी के बड़े नेताओं, हजारों कार्यकर्ताओं और आम लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। निगमबोध घाट पर कुछ देर में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। 66 वर्षीय पूर्व वित्त मंत्री जेटली का शनिवार को एम्स में निधन हो गया था, जहां 9 अगस्त को उन्हें इलाज के लिए भर्ती कराया गया था।
पूर्व वित्तमंत्री का पार्थिव शरीर फूलों से सजे एक सैन्य वाहन से कैलाश कॉलोनी स्थित घर से पंडित दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित बीजेपी मुख्यालय सुबह करीब 11 बजे लाया गया। जेटली के पार्थिव शरीर को ले जाने वाले काफिले के साथ कई बीजेपी नेता और परिवार के सदस्य भी मुख्यालय पहुंचे। मुख्यालय के केंद्रीय हॉल में जेटली के पार्थिव शरीर दोपहर 1 बजे तक रखा गया।
बीजेपी मुख्यालय के बाहर पार्टी कार्यकर्ता और शोकाकुल लोग अंतिम दर्शनों के लिए कतार में खड़े थे और ‘जब तक सूरज चांद रहेगा जेटली तेरा नाम रहेगा’ और ‘जेटली जी अमर रहें’ जैसे नारे लगा रहे थे।
शनिवार को जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर रखा गया था जहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और विभिन्न दलों के नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे। शाह ने शनिवार को कहा कि जेटली भ्रष्टाचार के खिलाफ एक योद्धा थे और जनता के लिए जनधन योजना लाने, नोटबंदी एवं जीएसटी के सफल क्रियान्वयन का श्रेय उन्हें जाता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »