अर्नब सर, बोलने की आज़ादी का कर्ज़ चुकाना है: कंगना रनौत

मुंबई। अभिनेत्री कंगना रनौत ने भी अर्नब गोस्वामी पर कार्यवाही को लेकर प्रतिक्रिया दी है. कंगना ने ट्वीट किया, “पप्पू प्रो को गुस्सा क्यों आता है? पेंगुइन को गुस्सा क्यों आता है? सोनिया सेना को इतना गुस्सा क्यों आता है? अर्नब सर उन्हें बोलने की आज़ादी के लिए अपने बाल खींचने दीजिए और मारपीट करने दीजिए. आज़ादी का कर्ज़ चुकाना है.”
किस मामले में हुई गिरफ़्तारी
वेबसाइट लाइव लॉ के मुताबिक़ मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी को आत्महत्या के लिए उकसाने के 2018 के एक मामले में आईपीसी की धारा 306 के तहत गिरफ़्तार किया है. रिपब्किल टीवी के मुताबिक़ ये केस बंद हो चुका था, जिसे दोबारा खोला गया है.
हालांकि पुलिस ने अब तक नहीं बताया है कि कार्यवाही किस मामले में हुई है.
मगर समझा जाता है कि अर्नब की गिरफ़्तारी का मामला एक मराठी इंटीरियर डिज़ानइर अन्वय नाइक की कथित आत्महत्या से जुड़ा है.
मई 2018 में कथित तौर पर आत्महत्या से पहले लिखे एक ख़त में उन्होंने आरोप लगाया था कि अर्नब गोस्वामी ने रिपब्लिक नेटवर्क के स्टूडियो का इंटीरियर डिज़ाइन कराने के बाद भुगतान नहीं किया था.
इस साल सितंबर में महाराष्ट्र विधानसभा में रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्नब गोस्वामी के ख़िलाफ़ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव दाख़िल किया गया था. जिसे विधानसभा ने स्वीकार भी कर लिया था.
इसके बाद कहा जा रहा था कि अर्नब गोस्वामी के ख़िलाफ़ सदन जल्द ही कार्यवाही शुरू कर सकता है.
महाराष्ट्र विधानसभा में गृह मंत्री अनिल देशमुख ने तब कहा था कि अन्वय नाइक मामले में अर्नब गोस्वामी की जांच होगी.
अनिल देशमुख ने महाराष्ट्र विधानसभा में कहा था, “अन्वय नाइक की पत्नी और बेटी ने मेरे पास आकर अर्नब गोस्वामी की शिकायत की है इसलिए महाराष्ट्र पुलिस अर्नब गोस्वामी के ख़िलाफ़ जांच करेगी. अन्वय नाइक की पत्नी अक्षता नाइक और बेटी प्रज्ञा नाइक के शिकायतों के आधार पर ही जांच होगी.”
इससे कुछ दिन पहले महाराष्ट्र के अंदर ‘जस्टिस फॉर अन्वय’ का हैशटैग भी खूब चला था.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *