सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस में Army Chief ने कहा, सीमाओं को लेकर चिंता की कोई बात नहीं

नई दिल्‍ली। Army Chief जनरल बिपिन रावत ने सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस में विभिन्न मुद्दों पर खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि चीन और पाकिस्तान से लगती सीमाओं पर स्थिति नियंत्रण में है और चिंता की कोई बात नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि हुर्रियत से वह बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन उन्हें पहले बंदूक छोड़नी होगी।
कश्मीर में सभी अलगाववादी ताकतों के साथ बात करने पर भी Army Chief ने दो टूक राय रखी है। रावत ने कहा कि हम बात करने से इंकार नहीं कर रहे लेकिन आंतक के साथ बातचीत नहीं हो सकती। उन्होंने युद्ध क्षेत्र में गंभीर रूप से घायल होने वाले सैनिकों के लिए उठाए जाने वाले कदमों की भी जानकारी दी।
Army Chief ने कहा, जब तक वो लोग हथियार नहीं छोड़ेंगे और दूसरे देश से सहायता लेना बंद नहीं करगें तब तक बात नहीं हो सकती। उन्हें पश्चिमी सीमा क्षेत्र से मिलने वाली मदद को बंद करना होगा और हिंसा का रास्ता छोड़ना होगा। Army Chief ने यह भी कहा कि सेना ने चीन और पाकिस्तान से लगी सीमाओं पर बेहतर तरीके से स्थिति को संभाला है और चिंता का कोई कारण नहीं होना चाहिए।
रावत ने अपने वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थिति को और सुधारने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘जम्मू कश्मीर में शांति के लिए हम केवल समन्वयक हैं। हमने उत्तरी और पश्चिमी सीमाओं पर स्थिति बेहतर तरीके से संभाली है।’ उन्होंने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं होनी चाहिए।
अफगानिस्तान में तालिबान से अमेरिका और रूस की बातचीत पर जनरल रावत ने कहा, ‘अफगानिस्तान में हमारे हित हैं। हम इससे अलग नहीं हो सकते। यही स्थिति जम्मू कश्मीर पर लागू नहीं की जा सकती। राज्य में हमारी शर्तों पर ही बातचीत होगी।’थल सेना प्रमुख ने कहा कि बातचीत और आतंक एक साथ नहीं चल सकता, यह जम्मू कश्मीर पर भी लागू होता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »