लेह पहुंचे आर्मी चीफ, गलवान हिंसा में घायल जवानों से की मुलाकात

लद्दाख। आर्मी चीफ मुकुंद नरवणे आज दो दिवसीय लेह दौरे पर पहुंचे। यहां उन्होंने गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से साथ संघर्ष में घायल जवानों से मुलाकात की।
सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने मिलिट्री हॉस्पिटल में बहादुर सैनिकों से मुलाकात की है। वह आज ही दो दिवसीय दौरे पर लेह पहुंचे हैं। मिलिट्री अस्‍पताल में वे जवान भर्ती हैं जो 15-16 जून को गलवाान घाटी में चीनी सैनिकों से लोहा लेते घायल हुए थे। आर्मी चीफ ने इन बहादुर जवानों से बातचीत कर उनका हाल जाना और उनके जल्‍द ठीक होने की उम्‍मीद जताई। आर्मी चीफ ने इन सैनिकों से उस रात हुए घटनाक्रम के बारे में भी जानकारी ली।
अब शुरू होगा असली दौरा
आर्मी चीफ का लेह दौरा सही मायनों में अब शुरू होगा। मिलिट्री अस्‍पताल के बाद वह XIV कॉर्प्‍स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह से मुलाकात कर सकते हैं। सिंह वही अधिकारी हैं जिनके साथ सोमवार को चीनी सेना के अधिकारी ने 12 घंटे तक बातचीत की थी। ले. सिंह इस बातचीत का ब्‍यौरा आर्मी चीफ के सामने रखेंगे। साथ ही आगे किस तरह नेगोशिएट किया जाए, इसे लेकर भी आर्मी चीफ गाइडेंस दे सकते हैं। शीर्ष सैन्य कमांडरों के दो दिवसीय सम्मेलन के अंतिम सत्र में शामिल होने के तुरंत बाद जनरल नरवणे लेह के लिए रवाना होंगे। सोमवार को शुरू हुए सम्मेलन में कमांडरों ने पूर्वी लद्दाख की स्थिति पर गंभीर चर्चा की थी।
सेना की तैयारियों को परखेंगे जनरल नरवणे
दो दिन के दौरे में सेना प्रमुख की नजर खासतौर से आर्मी की तैयारियों पर होगी। पूर्वी लद्दाख में बॉर्डर से लगे इलाकों में जिस तरह पिछले दिनों चीन ने हलचल बढ़ाई है, उसे देखते हुए आर्मी अलर्ट है। 15-16 जून की घटना के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) के दोनों ओर हजारों सैनिक तैनात किए गए हैं। इंडियन आर्मी ने अपने बेसेज पर भी रिजर्व फोर्स का मुस्‍तैद रखा है ताकि जरूरत पड़ने पर उन्‍हें मोबलाइज किया जा सके।
लेफ्टिनेंट जनरल आर्मी चीफ को करेंगे ब्रीफ
लेह में जनरल नरवणे, चीन से लगी संवेदनशील सीमा की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाली 14वीं कोर के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह से बातचीत करेंगे। सोमवार को लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने चीन के साथ तनाव काम करने के लिए तिब्बत सैन्य जिले के कमांडर मेजर जनरल ल्यू लिन के साथ 11 घंटे बैठक की थी। वार्ता के बारे में जानकारी रखने वाले लोगों ने कहा कि बैठक में भारतीय पक्ष ने चीनी सैनिकों द्वारा गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों पर किए गए पूर्वनियोजित हमले के संबंध में कड़ा विरोध जताया और पूर्वी लद्दाख में गतिरोध के प्रत्येक बिंदु से चीनी सैनिकों के तत्काल पीछे हटने की मांग की।
वायु सेना चीफ भी कर चुके हैं लद्दाख का दौरा
पिछले सप्ताह वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया ने लद्दाख और श्रीनगर वायु सैनिक अड्डों का दौरा किया था और क्षेत्र में किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए भारतीय वायु सेना की तैयारियों का जायजा लिया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *