KD हॉस्पिटल की स्वास्थ्य सुविधाएं लखनऊ तक सराही गईं

health facilities of K.D. hospital
health facilities of K.D. hospital

मथुरा। वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ अब तक अपनी सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा सुविधाओं और योग्य चिकित्सकों की समझबूझ से K D हॉस्पिटल ने न केवल कोरोना संक्रमितों में विश्वास जगाया है बल्कि लखनऊ से लेकर मथुरा जिला प्रशासन तक की प्रशंसा भी हासिल की है। अब तक यहां लगभग आठ सौ कोरोना संक्रमित उपचार को आ चुके हैं जिनमें 45 प्रतिशत लोग 50 साल से अधिक उम्र के शामिल हैं। बेहतर चिकित्सा सुविधाओं और विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम के प्रयासों का परिणाम है कि यहां 50 साल से कम उम्र के किसी भी व्यक्ति की मौत नहीं हुई है।

कोविड सेण्टर प्रमुख डॉ. गौरव सिंह का कहना है कि KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में 14 कोरोना संक्रमित महिलाओं को जहां मातृत्व सुख मिला वहीं चार पॉजिटिव महिलाओं की सिजेरियन डिलीवरी की गई। यहां 100 से अधिक कोरोना संक्रमितों को जहां वेंटीलेटर सुविधा मुहैया कराई गई वहीं तीन सौ से अधिक गम्भीर मरीजों को आईसीयू और एचडीयू के माध्यम से नई जिन्दगी प्रदान की गई। डॉ. सिंह ने बताया कि KD हॉस्पिटल जनपद का पहला ऐसा निजी स्वास्थ्य केन्द्र है जहां कोरोना संक्रमण की जांच से उपचार तक की सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

यहां से स्वस्थ होकर लौटने वालों में एक दिन के शिशु से लेकर 94 साल का वृद्ध शामिल है।

KD हॉस्पिटल के विशेषज्ञ चिकित्सक वैक्सीन के बिना भी अपनी समझ-बूझ से ऐसे कोरोना संक्रमितों को नई जिन्दगी प्रदान कर चुके हैं जोकि पहले से ही डायबिटीज, ब्लडप्रेशर, हृदय रोग, कैंसर, थाइराइड, किडनी, फेफड़े, डायलिसिस आदि से पीड़ित थे। पिछले छह माह में KD हास्पिटल के निडर डाक्टर्स ने कोरोना संक्रमण ही नहीं बल्कि अन्य गम्भीर परेशानियों से जूझते लोगों का उपचार और सफलतम सर्जरी कर समाज के सामने एक नजीर पेश की है।

आर. के. एजुकेशन हब के अध्यक्ष डॉ. रामकिशोर अग्रवाल निरंतर KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर की चिकित्सा सुविधाओं में इजाफा कर रहे हैं। डॉ. अग्रवाल के प्रयासों का ही नतीजा है कि यहां कोविड टेस्ट लैब तथा प्लाज्मा थेरेपी जैसी सुविधाएं अस्तित्व में आईं जोकि ब्रजवासियों के लिए जीवनदायी साबित हो रही हैं। डॉ. अग्रवाल न केवल हास्पिटल में आधुनिकतम चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करा रहे हैं बल्कि वैश्विक महामारी के खिलाफ प्राणपण से लगे डाक्टर्स, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ का हौसला भी बढ़ा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *