अक्षर आंचल योजना के तहत शीघ्र होगी शिक्षा सेवियों की नियुक्ति

महादलित, दलित एवं अल्पसंख्यक अतिपिछड़ा वर्ग अक्षर आंचल योजना के तहत टोला सेवक और तालीमी मकरज के शिक्षा सेवियों के 2082 पदों पर शीघ्र नियुक्ति होगी। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों (डीईओ) को अभियान चलाकर नियुक्ति का आदेश दिया है। शुक्रवार को श्री महाजन ने कहा कि 28 फरवरी तक सभी डीईओ अपनी देखरेख में नियोजन की कार्यवाही करें।
राज्य सरकार द्वारा चल रहे उक्त कार्यक्रम में टोला सेवक के 20 हजार जबकि तालीमी मरकज के शिक्षा सेवकों के 10 हजार पद स्वीकृत हैं। इनमें राज्य में दोनों प्रकार के 27 हजार 918 केन्द्र संचालित हैं। हर केन्द्र पर एक शिक्षा सेवक कार्यरत हैं, जबकि 2082 केन्द्रों के लिए नियोजन की कार्यवाही होनी है। हाल में शिक्षा विभाग ने शिक्षा सेवकों के कार्य, दायित्व एवं नियोजन की प्रक्रिया भी निर्धारित की है। महाजन ने कहा कि नियोजन होने से नये सत्र में दलित व अल्पसंख्यक अतिपिछड़ा वर्ग के बच्चों के शत प्रतिशत नामांकन, दैनिक उपस्थिति बढ़ाने, ड्रापआउट रोकने में मदद मिलेगी। कहा कि नियोजन में पूरी पारदर्शिता बरती जाए। नियोजन के लिए शीघ्र टोले का निर्धारण किया जाए। जरूरत होने पर नियोजन में जिलास्तर से पर्यवेक्षक भी लगा सकते हैं।
परीक्षा के लिए हर जिले में नोडल पदाधिकारी नियुक्त
पटना। बिहार बोर्ड की मैट्रिक और इंटर परीक्षा कदाचार मुक्त हो, इसके लिए सभी जिले में एक-एक नोडल पदाधिकारी नियुक्त किए गए हैं। नोडल पदाधिकारी की जिम्मेदारी प्रश्न पत्र परीक्षा केंद्र तक पहुंचाने से लेकर पूरी परीक्षा पर नजर रखनी है। शिक्षा विभाग से जुड़े अफसर नोडल पदाधिकारी बनाए गए हैं। इंटर परीक्षा शुरू होने के पहले ही चार फरवरी को ही नोडल अफसरों को आवंटित जिले में चले जाना है। परीक्षा के दौरान वे वहीं रहेंगे। बोर्ड की मानें तो छह से 16 फरवरी तक इंटर और 21 से 28 फरवरी तक मैट्रिक की परीक्षा होगी।
मुख्य सचिव दीपक कुमार ने जिलाधिकारियों और एसपी को मैट्रिक व इंटर की परीक्षा को कदाचार मुक्त कराने के सख्त निर्देश दिए। कहा कि इसके लिए कड़ा कदम उठायें, जिससे कोई कदाचार करने की हिम्मत न करे। पिछले वर्षों से इस बार परीक्षा में राज्य सरकार अधिक सख्ती बरतेगी। उन्होंने इसके लिए अभी से तैयारी करने को कहा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »