अनुपम खेर ने नसीरुद्दीन शाह से पूछा, आखिर और कितनी आजादी चाहिए?

मुंबई। बॉलिवुड के दिग्गज अभिनेताओं में से एक माने जाने वाले नसीरुद्दीन शाह के पिछले दिनों मॉब लिंचिंग और अपने बच्चों की सुरक्षा को लेकर डर पर दिए गए बयान पर अब ऐक्टर अनुपम खेर की कड़ी प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने तंज भरे अंदाज में यह सवाल भी किया कि ‘आखिर और कितनी आजादी चाहिए?’
अनुपम खेर ने कहा, ‘देश में इतनी आजादी है कि सेना को अपशब्द कहे जा सकते हैं, एयर चीफ की बुराई की जा सकती है और सैनिकों पर पथराव किया जा सकता है। आपको इस देश में और कितनी आजादी चाहिए?
उन्हें (नसीरुद्दीन शाह) जो कहना था वह कह दिया, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि जो कहा वह सच है।’
क्या है मामला
दरअसल, हाल ही में नसीरुद्दीन शाह ने देश में मुस्लिमों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था, ‘एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा एक गाय की मौत को अहमियत दी जा रही है और ऐसे माहौल में मुझे अपनी औलादों के बारे में सोचकर फिक्र होती है। वह कहते हैं कि देश के माहौल में काफी जहर फैल चुका है और इस जिन्न को बोतल में डालना मुश्किल दिख रहा है।’
‘मुझे डर लगता है कि कल को मेरे बच्चे बाहर निकलेंगे तो भीड़ उन्हें घेरकर पूछ सकती है कि तुम कौन हो? हिंदू या मुसलमान? ऐसे में वह क्या जवाब देंगे? इस स्थिति में सुधार की जरूरत है और जिन्न को बोतल में बंद करना होगा।’
एक इंटरव्यू के दौरान कही गई इन बातों का वीडियो नसीरुद्दीन शाह ने खुद भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किया था, जिसके बाद उनकी आलोचना होना शुरू हो गई थी। इस विरोध के चलते अजमेर साहित्य महोत्सव में होने वाले ऐक्टर के कार्यक्रम को भी रद्द करना पड़ा था।
सिनेमा टिकट पर जीएसटी कम होने पर भी दिया बयान
सिनेमा के टिकट पर जीएसटी दर कम किए जाने पर भी अनुपम खेर ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि ‘टिकट पर जीएसटी दरों को 18% से 12% किया जाना भारतीय फिल्म इंडस्ट्री के लिए एक ऐतिहासिक कदम है। इस कदम का श्रेय पीएम नरेंद्र मोदी को जाता है। फिल्में न सिर्फ एंटरटेन करती हैं बल्कि टूरिजम को भी बढ़ावा देती हैं।’
मूवी टिकट पर जीएसटी कम किए जाने को लेकर बॉलिवुड ने भी अपनी खुशी जाहिर की है। अक्षय कुमार और अजय देवगन ने इसके लिए पीएम को शुक्रिया कहा, वहीं प्रोड्यूसर गिल्ड की ओर से एक प्रेस रिलीज जारी कर इस कदम का स्वागत किया गया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »