एंटीलिया केस: अब महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख को हटाने की अटकलें शुरू

मुंबई। मुंबई में मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के घर के बाहर विस्फोटक से लदी गाड़ी के मामले में रोज नए ट्विस्ट और टर्न आ रहे हैं। पूरे घटनाक्रम से महाराष्ट्र की राजनीति में उथल-पुथल मची हुई है। इन सब के बीच अब महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख के हटाने की अटकलें शुरू हो गई हैं। इस घटनाक्रम में मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की कुर्सी जा चुकी है। कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों पर भी कार्यवाही की तलवार लटक रही है। सूत्रों के अनुसार इस मामले में अनिल देशमुख की कुर्सी पर भी खतरा मंडरा जा रहा है। एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार अपने मंत्री अनिल देशमुख से नाराज बताए जा रहे हैं।
पूरे मामले में शरद पवार को विश्वास में नहीं लिया
पार्टी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि एंटीलिया के बाहर विस्फोटक मामले को देशमुख ने जिस तरह से संभाला है उससे शरद पवार नराज हैं। कहा जा रहा है कि इस मामले में अनिल देशमुख ने शरद पवार को पूरी तरह से जानकारी नहीं दी। मामला इतना बढ़ गया कि शरद पवार को खुद इस मामले में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात करनी पड़ी।
दिल्ली में शरद पवार से की मुलाकात
पूरे घटना क्रम के बीच अचानक शुक्रवार को राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख दिल्ली पहुंचे। यहां देशमुख ने शरद पवार से उनके आवास पर उनसे मुलाकात की। मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि वह विदर्भ में एक मल्टीनेशनल कंपनी के प्रोजेक्ट में आ रही बाधा दूर करने के संबंध में पवार से मिलने आए थे। इससे पहले भाजपा नेता भी गृहमंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। इस पूरे घटनाक्रम से जहां पुलिस की छवि पर सवाल तो उठे ही हैं, महाराष्ट्र सरकार की भी काफी किरकिरी हुई है।
एनसीपी की तरफ से आया है खंडन
हालांकि, इस मामले में एनसीपी महाराष्ट्र के अध्यक्ष और मंत्री जयंत पाटिल ने कहा कि मंत्रिमंडल में कोई भी फेरबदल नहीं होने वाला है। राज्य के गृहमंत्री को हटाए जाने की अटकलों पर पाटिल ने कहा कि ये गलत खबर है। पार्टी अध्यक्ष शरद पवार ने कामकाज से संबंधित मीटिंग बुलाई है। गृहमंत्री अनिल देशमुख ही रहने वाले हैं, उसमें कोई भी बदलाव नहीं होगा।
अनिल देशमुख ने मानी थी पुलिस कमिश्नर की गलती
महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक मिलने के मामले में पुलिस कमिश्नर की गलती मानी थी। देशमुख ने कहा कि परमबीर सिंह का तबादला रूटीन प्रशासकीय ट्रांसफर नहीं है। मुंबई पुलिस विभाग के प्रमुख होने के नाते उनके सहयोगी अधिकारी ने कुछ गंभीर गलतियां की है।इसके लिए माफी नहीं दी जा सकती है। इस कारण उनका ट्रांसफर हुआ है। इस मामले में अब जांच में जो सामने आएगा उस अनुसार कार्यवही की जाएगी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *