एंटीलिया केस: NIA की जांच में कई खुलासे, स्‍कॉर्पियो की फर्जी नंबर प्‍लेट बनाने और CCTV फुटेज नष्‍ट करने का काम सचिन वझे ने ही किया

मुंबई। NIA की जांच में सचिन वझे कई अहम खुलासे कर रहे हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक जो स्कॉर्पियो मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटकों से भरी लावारिस अवस्था में मिली थी। वह कभी चोरी ही नहीं हुई थी। जब यह मामला प्रकाश में आया था, तब यह थ्योरी भी सामने आई थी कि यह स्कॉर्पियो विक्रोली इलाके से चोरी की गई थी। और इस मामले में स्थानीय पुलिस स्टेशन में मुकदमा भी दर्ज करवाया गया था।
झूठ बोलकर लिया सीसीटीवी फुटेज
एनआईए सूत्रों की माने तो सचिन वझे ने अपने घर के बाहर लगे हुए तमाम सीसीटीवी (CCTV) के फुटेज भी झूठ बोलकर हासिल किए थे। वझे ने सोसायटी के अधिकारियों से यह कहा था कि यह डीवीआर (DVR) पुलिस के इस्तेमाल की चीज है। उन्होंने यह फुटेज लेकर उसे नष्ट कर दिया था ताकि कभी जांच होने पर जांच टीम को सबूत हाथ ना लग सके। एनआईए को वझे के एक सहयोगी का लेटर भी मिला है। जिसे उसने सोसाइटी के फुटेज हासिल करने के लिए लिखा था। पत्र में वझे के हस्ताक्षर भी थे। पत्र में लिखा गया था कि यह फोटो एंटीलिया केस की जांच के लिए मांगे जा रहे हैं।
वझे ने नष्ट किये सबूत
सचिन वझे को हिरासत में लेकर एंटीलिया मामले की जांच कर रही है एनआईए की टीम को यह भी पता चला है कि वझे ने सीसीटीवी फुटेज नष्ट करने के कोशिश की थी उन्होंने सीसीटीवी कैमरों के दे दिया है यानी डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर को नष्ट करने का प्रयास प्रयास किया था। एनआईए को यह भी पता चला है कि सचिन वझे नंबर प्लेट बनाने की दुकान पर गए थे। जहां से उन्होंने स्कॉर्पियो और इनोवा के लिए फर्जी नंबर प्लेट भी बनवाई थी। आपको बता दें कि स्कॉर्पियो पर एक स्कूटर के नंबर की नंबर प्लेट को इस्तेमाल किया गया था। इस मामले में वझे के सहयोगी रियाज काजी से भी पूछताछ की जा रही है।
स्कार्पियो और इनोवा दोनों के ड्राइवरों का पता चला
एनआईए सूत्रों की माने तो जिस स्कॉर्पियो में जिलेटिन की छड़ों को भरकर अंबानी के घर के पास खड़ा किया गया था और दूसरी इनोवा कार के ड्राइवरों का पता चल गया है। दोनों ड्राइवरों के पुलिस महकमे से जुड़े हुए होने की जानकारी सामने आ रही है। दोनों ही ड्राइवर सचिन वझे के संपर्क में थे। जानकारी के मुताबिक दोनों ही ड्राइवर सीआईयू से जुड़े बताये जा रहे हैं।
ऐसे में सचिन वझे की आखिर मंशा क्या थी? अंबानी के घर के बाहर विस्फोटकों से लदी कार क्यों रखी गई? किसके कहने पर रखी गई? जैसे कई सवालों के जवाब अब एनआईए सचिन वझे से चाहती है। 24 फरवरी की रात तकरीबन एक बजे के आसपास यह दोनों गाडियां एंटीलिया के पास आई थीं। स्कॉर्पियो पार्क करने के बाद इनोवा कार निकल गई थी।
एनआईए के राडार पर दोनों ड्राइवर
एनआईए (NIA) जांच दल के अधिकारियों की नजर अब दोनों ड्राइवरों पर भी है। दोनों ड्राइवर कहीं शहर से दूर ना चले जाएं इसलिए एनआईए की टीम लगातार इन पर नजर बनाए हुए हैं। सूत्रों की मानें तो जल्द ही इन्हें भी पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है।
चोरी नहीं हुई थी स्कार्पियो
एनआईए की जांच में सचिन वझे कई अहम खुलासे कर रहे हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक जो स्कॉर्पियो मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटकों से भरी लावारिस अवस्था में मिली थी। वह कभी चोरी ही नहीं हुई थी। जब यह मामला प्रकाश में आया था, तब यह थ्योरी भी सामने आई थी कि यह स्कॉर्पियो विक्रोली इलाके से चोरी की गई थी। और इस मामले में स्थानीय पुलिस स्टेशन में मुकदमा भी दर्ज करवाया गया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *