Gujarat riots पर बनी एक और फिल्‍म जीशान अयूब की समीर

मुंबई। Gujarat riots पर बनी एक और फिल्‍म जीशान अयूब की समीर आ रही है. पाश की कविताओं, गांधी और मंटो से लेकर हर वह चीज इसमें है जो सांप्रदायिकता और समाज को बांटने वाली चीज पर प्रहार करती है. फिल्म का आधार गुजरात दंगों को बनाया गया है. डायरेक्टर ने हकीकत और फसाने का जो मिक्सचर पेश किया है, वह फिल्म को स्पेशल बनाता है. कहानी एकदम टाइट है और एक्टिंग जबरदस्त. डायरेक्शन के मामले में भी फिल्म सधी हुई है. समाज और नेताओं पर करारा व्यंग्य है. आज जब अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर सवाल उठ रहे हैं, ऐसे में ‘समीर’ जैसी फिल्म का आना अच्छी बात है. फिल्म कई तरह के सवाल उठाती है जो आज के दौर में पूरी तरह से प्रासंगिक हैं.

फिल्म की शुरुआत हैदराबाद से होती है जहां एक बम धमाका होता है. इसमें 14 लोग मारे जाते हैं. नाम आता है यासीन दर्जी नाम के शख्स का और पकड़ लिया जाता है उसका रूममेट समीर मेमन (जीशान अयूब) जो इंजीनियरिंग का स्टूडेंट है. समीर को मजबूर करके एटीएस ऑफिसर उसे यासीन का पता लगाने का काम देते हैं. ऑफिसर समीर को धमकी देता है कि तू बकरा बनेगा और मैं कसाई. वहीं आतंकी अपने हर हमले से पहले जर्नलिस्ट आलिया (अंजलि पाटील) को मैसेज कर देते हैं. यासीन दर्जी जर्नलिस्ट का फैन है. समीर को एटीएस ब्लैकमेल करती है. दूसरी धमाका बेंगलूरू में होता है और तीसरा अहमदाबाद में. इसके बाद जो फिल्म में एक के बाद एक रहस्य पर से पर्दा उठता है तो हैरानी से मुंह खुला रह जाता है. फिल्म में थ्रिलर वाले सारे गुण है.

जीशान पहली बार लीड रोल में आए हैं. वे ‘रांझणां’ और ‘तनु वेड्स मनु रिटर्न्स’ में छोटे किरदारों से बड़ी पहचान कायम कर चुके हैं. समीर के किरदार में जीशान ने जबरदस्त एक्टिंग की है. उनका अभिनय इतनी इंटेंस है कि वह आप पर गहरा असर छोड़ेंगे. अंजलि पाटील ने जर्नलिस्ट का किरदार अच्छा निभाया है. मंटो भाई जैसे किरदार की सख्त दरकार है क्योंकि आज के दौर में पत्थर पर रिएक्शन करने के लिए तो हर कोई तैयार है. लेकिन उस पत्थर के पीछे की कहानी कोई समझने को तैयार नहीं है. रॉकेट नाम का बच्चा फिल्म में जब भी आता है अपनी बातों से दिल जीत जाता है.
‘समीर’ के रिमांड के सीन रौंगटे खड़े कर देते हैं. नेता का यह पूछना कि क्या पकड़ा गया शख्स मुसलमान है काफी कुछ कह जाता है. फिर एटीएस अफसर का यह कहना- ‘वैलकम टू गुजरात’ और ‘खुशबू गुजरात की’ भी कई बातें की ओर इशारा कर देती है. समीर की कहानी तेजी से चलती है और बांधकर रखती है. फिल्म का अंत अच्‍छा है और फिल्‍म देखने काबिल है.
फिल्‍म के डायरेक्टर दक्षिण बजरंगे छारा हैं और कलाकारों में नायक जीशान अयूब, अंजलि पाटील और सीमा बिश्वास हैं.

बता दें कि पहलाज निहलानी के नेतृव में सेंसर बोर्ड की कई फिल्मों के हिस्सों को डिलेट करने जैसे मामलों पर, बोर्ड की कड़ी आलोचना हुई थी। वहीं हाल ही में एक और फिल्म “अनारकली ऑफ आरा” के प्रोड्यूसर ने जब उन बदलवों के बारे में बताया, जो सेंसर बोर्ड ने करने को कहे थे, तो पहलाज निहलानी ने फिल्म पर ही निशाना साधा था। छरा की यह फिल्म 2008 में Gujarat riots अहमदाबाद में हुए बम धमाकों पर आधारित है।

-एजेंसी