शैक्षणिक संस्थानों के प्रमुखों के साथ आरएसएस का एक और बड़ा कार्यक्रम

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधान विकास मंत्रालय की देखरेख में आरएसएस द्वारा स्‍थापित रिसर्च फॉर रिसर्जेंस फाउंडेशन ( research for resurgence foundation) द्वारा विज्ञान भवन में 29 सितंबर को शैक्षणिक संस्थानों के प्रमुखों के साथ बड़ा कार्यक्रम आयोजित होने जा रहा है जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगे।

इकनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार यह कार्यक्रम आरएसएस के अभी अभी संपन्‍न हुए ”भविष्‍य का भारत” के तीन दिवसीय कार्यक्रम की अगली कड़ी ही है जिसे आरएसएस फिर से शिक्षण संस्था शैक्षणिक संस्थानों के प्रमुखों के साथ आयोजित करने जा रही है।
बता दें कि इस कार्यक्रम में केंद्रीय मानव संसाधान विकास मंत्रालय, राष्ट्रीय शिक्षा नियामक विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के साथ ही एआईसीटीई और जेएनयू भी सहयोग कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी भी नागपुर बेस्ड रिसर्च फॉर रिसर्जेंस फाउंडेशन द्वारा विज्ञान भवन में 29 सितंबर को आयोजित कॉन्क्लेव को संबोधित करेंगे। फाउंडेशन के संयोजक राजेश बिनीवाले ने इकनॉमिक टाइम्स को बताया कि 300 से ज्यादा शिक्षाविद और दूसरी प्रमुख हस्तियों के इस कार्यक्रम में पहुंचने की उम्मीद है। बता दें कि आरएसएस से जुड़े भारतीय शिक्षण मंडल ने इस फाउंडेशन की स्थापना 2017 में की थी।

इसके अलावा प्रकाश जावड़ेकर के मंत्रालय ने सभी IITs, IIMs, NITs, IISERs और केंद्रीय विश्वविद्यालयों के प्रमुखों को इस एक दिन के कॉन्फ्रेंस के लिए आमंत्रित किया है। अगले हफ्ते आयोजित ‘कॉन्फ्रेंस ऑफ ऐकडेमिक लीडरशिप ऑन एजुकेशन फॉर रिसर्जेंस’ के लिए IGNCA, इंडियन काउंसिल फॉर सोशल साइंस ऐंड रिसर्च और इग्नू भी सहयोग कर रहे हैं।

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को बेहतर तालमेल के साथ काम करने पर जोर देना है जिससे वे राष्ट्र निर्माण के लिए मिशन मोड में काम कर सकें। इसके साथ वे इनोवेटिव विचारों को आपस में शेयर करें और राष्ट्रीय जरूरतों के समाधान खोजने के लिए तत्पर रहें। कॉन्फ्रेंस का समापन सीखने पर आधारित रोडमैप के साथ होगा, जिसमें कैंपस में बेहतर माहौल पैदा करने, प्रेरक गैलरी, राष्ट्रीय झंडे के प्रदर्शन, महत्वपूर्ण हस्तियों की मूर्तियों, खेल और योग के जरिए जिम्मेदारी की भावना पैदा करने के साथ ही राष्ट्रीय एकता की भावना को बल देना होगा।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »