राज कुंद्रा व शिल्‍पा को एक और बड़ा झटका, सोना घोटाला केस में मिली हार

मुंबई। पोर्नोग्राफी केस में गिरफ्तारी और पुलिस की रिमांड झेल रहे राज कुंद्रा को एक और बड़ा झटका लगा है। लंबी लड़ाई के बाद एक्‍टर सचिन जोशी को बम्‍बई हाई कोर्ट ने ‘सोना घोटाला’ मामले में जहां बड़ी राहत दी है, वहीं राज कुंद्रा और उनकी एक्‍ट्रेस पत्‍नी श‍िल्‍पा शेट्टी पर कोर्ट का चाबुक चला है। कोर्ट ने सतयुग गोल्‍ड कंपनी से खरीदे गए 1 किलो की सोने की छड़ सचिन जोशी को सौंप दी है जबकि कंपनी पर 3 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना सचिन की कानूनी लड़ाई की भरपाई के तौर पर है। राज कुंद्रा और श‍िल्‍पा शेट्टी सतयुग गोल्‍ड कंपनी के मालिक रह चुके हैं।
स्‍कीम के तहत खरीदा था 1 किलो सोना
सचिन जोशी ने राज कुंद्रा और श‍िल्‍पा शेट्टी के ख‍िलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज करवाया था। सचिन ने अपनी याचिका में कोर्ट से गुहार लगाई थी सतयुग गोल्‍ड कंपनी ने उन्‍हें धोखा दिया है। यह एक गोल्‍ड ट्रेडिंग कंपनी है, जिसके मालिक पहले राज कुंद्रा और श‍िल्‍पा शेट्टी थे। सचिन ने इस कंपनी से एक स्‍कीम के तहत 1 किलो सोना खरीदा था।
दो बार मांगे पैसे, नहीं दिया सोना
सचिन कहते हैं कि ‘मेरी कानूनी लड़ाई सिर्फ सतयुग गोल्ड के कई निवेशकों का प्रतिनिधित्व थी, जिन्होंने स्‍कीम के तहत कम दाम में सोने की खरीद की थी। यह सोना हमें कभी मिला ही नहीं।’ सचिन के मुताबिक उन्‍होंने 25 मार्च 2014 को सतयुग गोल्‍ड को 18 लाख 57 हजार 870 रुपये का भुगतान किया था। इसके बाद कंपनी ने उन्‍हें 25 लाख 50 हजार रुपये जुर्माना भरने को कहा गया ताकि वह सोना ले सके।
6 साल बाद कहा, 25 लाख रुपये और दो
सचिन कहते हैं कि ‘मैंने कंपनी को 18 लाख 57 हजार रुपये से अध‍िक का भुगतान किया था जबकि 6 साल बाद मुझे कहा गया कि 25 लाख रुपये और भरने होंगे। आप कल्‍पना कर सकते हैं कि एक आम आदमी, जिसने अपनी मेहनत की कमाई से इसमें इन्‍वेस्‍ट किया होगा, यह सोचकर कि एक सिलेब्रिटी इस कंपनी का चेयरमैन है, उसकी क्‍या हालत हुई होगी। मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे साथ धोखा हुआ है। फिर मुझे एहसास हुआ कि इसके ख‍िलाफ आवाज उठाने की जरूरत है क्‍योंकि यह गलत हो रहा है। शायद मैं दूसरों के लिए एक आशा की किरण बन जाऊं।’
कोर्ट ने अपने कब्जे में ले लिया था सोना
बहरहाल, कोर्ट ने इस मामले में सतयुग गोल्‍ड से बॉम्बे हाई कोर्ट के प्रोटोनोटरी और सीनियर मास्टर के पास 1 किलो सोना जमा करने के लिए कहा था। कोर्ट ने सोना अपने कब्जे में ले लिया और इसे कोर्ट के स्ट्रांग रूम/वॉल्ट में सील कर दिया। सचिन जोशी एक एक्‍टर होने के साथ ही बिजनेसमैन भी हैं। वह विदेश में थे इसलिए उनके वकील कोर्ट से अनुरोध किया कि सोना उनके प्रतिनिधि को सौंप दिया जाए।
‘इसका मतलब है उनके पास कभी गोल्‍ड था ही नहीं’
अदालत की कार्यवाही के दौरान सोने की छड़ का वजन 1.022 किलोग्राम था। 7 सितंबर 2020 को इसे बैंक ऑफ इंडिया की तिजोरी में रखा गया था। सचिन जोशी ने इससे पहले मामले में मुंबई के खार पुलिस स्टेशन में धारा 406, 409 और 420 के तहत शिकायत दर्ज करवाई थी। इसमें उन्‍होंने कहा कि राज कुंद्रा और शिल्पा शेट्टी को कंपनी के मालिक के तौर पर देखते हुए उन्‍होंने सतयुग गोल्ड को पैसों का भुगतान किया था लेकिन छह साल बाद उनके साथ कथित तौर पर धोखाधड़ी हुई। जब सचिन जोशी से यह पूछा गया कि वह इस मामले में अब तक चुप क्‍यों थे, तो उन्‍होंने कहा कि ‘बहुत सारे आरोप लगाए गए थे। 18 लाख 57 हजार 870 रुपये की सोने की खरीद पर हमें इसे पाने के लिए 25 लाख रुपये का अलग से भुगतान करने को कहा गया। यह मामला तब बदल गया जब हमने उन्हें सोना देने को कहा। उन्‍होंने अनमोल ज्वेलर्स से सोना खरीदा और इसका बिल भी अटैच किया। इसका सीधा मतलब है कि उन्‍होंने न तो सोना खरीदा था और न ही कभी इसका स्‍टोरेज किया, फिर स्‍टोरेज फीस लेने का मतलब ही नहीं बनता। यानी राज कुंद्रा और सतयुग गोल्‍ड के पास कभी सोना था ही नहीं।’
शिल्‍पा शेट्टी संग चेक बाउंस का भी है केस
इस मामले से इतर शिल्पा शेट्टी ने इससे पहले सचिन जोशी के खिलाफ चेक बाउंस का जिक्र किया था। उसी के बारे में बात करते हुए सचिन ने कहा कि ‘हमें अपना 1 किलो सोना और 3 लाख जुर्माना मिला। यह रकम इस कानूनी प्रक्रिया से गुजरने के लिए भरपाई के तौर पर मिली है। जहां तक चेक बाउंस के मामले की बात है तो हम वह भी जीतेंगे क्योंकि चेक को रोक दिया गया था, वह बाउंस नहीं हुआ था। मुझे उनके तौर-तरीकों पर शक हुआ था, इसलिए चेक को रोका गया। मुझे खुशी है कि आख‍िरकार कर्मा ने राज कुंद्रा पर सजा दे ही दी है।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *