अनिल Ambani ने बताया, 14 महीनों में 35 हजार करोड़ रुपये का कर्ज चुकाया

नई दिल्‍ली। रिलायंस अनिल धीरूभाई अंबानी समूह के प्रमुख अनिल Ambani ने मंगलवार को कहा कि उनका समूह सभी कर्जों को समय से पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। पिछले 14 महीनों में उनके समूह ने 35,000 करोड़ रुपये का कर्ज चुकाया है।
Ambani ने एक प्रेसवार्ता में संवाददाताओं से कहा कि चुनौतीपूर्ण हालातों और वित्तपोषकों से कोई वित्तीय सहायता नहीं मिलने के बावजूद उनके ग्रुप ने एक अप्रैल 2018 से लेकर 31 मई 2019 के बीच अपने ऊपर बकाया ऋण में 24,800 करोड़ रुपये मूलधन और 10,600 करोड़ रुपये ब्याज का भुगतान किया है।
उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ हफ्तों के दौरान गैरवाजिब अफवाहों, अटकलों और रिलायंस समूह की सभी कंपनियों के शेयर में गिरावट के चलते हमारे सभी स्टेकहोल्डर्स को काफी नुकसान हुआ है।’
35,000 करोड़ रुपये के ऋण का भुगतान रिलायंस कैपिटल, रिलायंस पावर और रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर और इनसे संबद्ध कंपनियों से जुड़ा है। Ambani ने निवेशकों को आश्वस्त किया कि उनका समूह भविष्य में सभी कर्जों को समय से पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसके लिए उसके पास परिसंपत्तियों के मौद्रिकरण की योजना है जिसे वह कई स्तर पर लागू भी कर चुका है।
Ambani ने समूह की कुछ समस्याओं के लिए नियामकीय संस्थानों (रेग्युलेटरी अथॉरिटीज) और अदालतों को भी जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि कुछ मामलों में फैसला आने में देरी की वजह से समूह को 30,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया नहीं मिल पाया। Ambani ने कहा कि रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर, रिलायंस पावर और उससे संबद्ध कंपनियों का यह बकाया 5 से 10 साल तक पुराना है। इस पर अंतिम निर्णय आने में एक के बाद एक कारणों से देरी हुई।
उन्होंने कहा कि वित्तीय प्रणाली ने ADAG ग्रुप के प्रति पूरी तरह उदासीनता बरती और कहीं से भी कोई समर्थन नहीं मिला जिसका परिणाम यह हुआ कि इसने कर्जदाताओं और अन्य स्टेकहोल्डर्स के हितों का नुकसान हुआ। अंबानी ने भरोसे से कहा कि ग्रुप को बदलने की यात्रा शुरू हो चुकी है जिसमें पूंजी को हल्का रखने, कम से कम ऋण लेने और शेयर पर ऊंचा रिटर्न देने की प्रतिबद्धता है जो सभी स्टेकहोल्डर्स के मूल्य को बढ़ाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *