NRC पर बोले अमित शाह, असम को किसी भी कीमत पर दूसरा कश्मीर नहीं बनने देंगे

गोवाहाटी।  NRC ( राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण) को असम के लिए ही नहीं देश के लिए भी अति आवश्‍यक बताते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को कहा कि केंद्र में बैठी भाजपानीत सरकार असम को दूसरा कश्मीर नहीं बनने देगी और इसी वजह से NRC (National Register of Citizens) को लाया गया है। उन्होंने कहा कि घुसपैठियों को पहचानने के लिए एनआरसी को पेश किया गया है और भाजपा ऐसे किसी भी बाहरी अथवा दूसरे देश के नागरिकों को यहां से भेजकर असम को उससे छुटकारा दिलाएगी।

असम के उत्तरी लखीमपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, ‘हम वचन देते हैं कि असम को दूसरा कश्मीर नहीं बनने देंगे। जब भी जरूरत पड़ेगी हम NRC प्रक्रिया को दोहराएंगे और सभी घुसपैठियों असम से बाहर भेज देंगे।’

विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) विधेयक जिसे केंद्र सरकार ने राज्यसभा में पेश नहीं किया था, का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस बारे में गलत जानकारी फैलाई गई कि यह कानून सिर्फ असम और उत्तर-पूर्व के राज्यों के लिए हैं। अमित शाह ने कहा, ‘यह केवल उत्तर-पूर्व के लिए नहीं, बल्कि देशभर में गैर-कानूनी तरीके से रह रहे सभी शरणार्थियों के लिए है। जिस तरह से असम की जनसांख्यिकीय में बदलाव हो रहा है, ऐसे में नागरिकता बिल के बिना राज्य के लोगों का अस्तित्व खतरे में आ जाएगा।’

इसके बाद अमित शाह ने बीते गुरुवार (14 फरवरी) को पुलवामा में हुए फिदायीन आतंकी हमले पर भी अपनी बात रखी। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। उन्होंने कहा, ‘इस कायराना हरकत को पाकिस्तान के आतंकियों ने अंजाम दिया। हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा क्योंकि केंद्र में अब कांग्रेस की सरकार नहीं है। यह भाजपा की सरकार है और नरेंद्र मोदी सरकार सुरक्षा के मुद्दे पर कोई भी समझौता नहीं करेगी।’

प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस और इसके साथ गठबंधन में रह चुका क्षेत्रीय दल असम गण परिषद (एजीपी) पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि लंबे समय तक राज्य की सत्ता में रहने के बावजूद दोनों ही पार्टियों ने असम के विकास और खुशहाली के लिए कुछ भी नहीं किया।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »