अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हत्‍याओं पर ग्राउंड रिपोर्ट मांगी

कोलकाता। पश्चिम बंगाल से लगातार हिंसा की खबरें सामने आ रही हैं। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल के अधिकारियों से उत्तरी 24 परगना में हिंसा के दौरान शनिवार को चार लोगों की मौत के मामले में ग्राउंड रिपोर्ट मांगी है।
रिपोर्ट्स के मुताबिक झड़प में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के तीन कार्यकर्ताओं और एक तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) कार्यकर्ता की मौत हो गई थी।
पश्चिम बंगाल बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने बताया, ‘केंद्रीय गृहमंत्री ने राज्य सरकार से मामले की एक रिपोर्ट मांगी है और मुझे पूरा भरोसा है कि केंद्र इस घटना को गंभीरता से लेगा। घटना के बाद लोगों में आक्रोश व्याप्त है।’
बता दें कि पार्टी के झंडे निकालकर फेंकने को लेकर दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच विवाद हो गया था। हालांकि, टीएमसी का आरोप है कि फायरिंग के पीछे बीजेपी का हाथ है। उधर, बीजेपी कह रही है कि टीएमसी उसके कार्यकर्ताओं को सुनियोजित तरीके से निशाना बना रही है।
एक-दूसरे पर लगा रहे हैं आरोप
टीएमसी नेता और स्टेट फूड मिनिस्टर ज्योतिप्रियो मुलिक ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ता कय्यूम मुल्ला पर तब हमला किया गया जब वह हाटगाछी में आयोजित एक जनसभा में शामिल होने जा रहे थे और उन्हें बेहद करीब से गोली मारी गई। दूसरी ओर बीजेपी बंगाल के जनरल सेक्रटरी सत्यानन बसु ने तीन बीजेपी कार्यकर्ताओं की पहचान की है, जिनकी कथित तौर पर टीएमसी वर्कर्स द्वारा हत्या की गई है।
टीएमसी-बीजेपी वर्कर्स के बीच झड़पें जारी
बसु ने कहा, ‘हमारे समर्थक प्रदीप मंडल, स्वपन मंडल और सुकांता मंडल टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा की गई फायरिंग के चलते मारे गए थे।’
गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के पहले से पश्चिम बंगाल में टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच लगातार हमलों की खबरें सामने आ रही हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि बीजेपी जहां टीएमसी पर निशाना साध रही है, वहीं टीएमसी लगातार बीजेपी पर आरोप लगाने में जुटी हुई है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *