अमेरिका ने कहा, आतंकवाद के खिलाफ भारत की कार्यवाही सराहनीय

नई दिल्‍ली। आतंकी गतिविधियों को लगातार बढ़ावा दे रहे पाकिस्तान को अमेरिका ने फिर सख्त लहजे में संदेश दिया है कि उसे जल्द इसके खिलाफ कोई ऐक्शन लेना होगा।
इतना ही नहीं, आतंकवाद के खिलाफ कार्यवाही कर रहे भारत के काम को अमेरिका ने सराहा है और कहा कि वह हमारे साथ मजबूती के साथ खड़ा है।
अमेरिका ने फिर दोहराया कि आतंकी संगठनों या किसी भी आतंकी के खिलाफ कार्यवाही में वह भारत के साथ है।
भारत और अमेरिका के बीच यह बातें काउंटर टेररिज्म जॉइंट ग्रुप की एक मीटिंग में हुईं। दोनों तरफ के अधिकारियों के बीच यह मीटिंग 29 मार्च को वॉशिंगटन में हुई। यह इस ग्रुप की छठी बैठक थी। इसमें भारतीय दल का नेतृत्व विदेश मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी महावीर सिंघवी ने किया था। बैठक के बाद साझा बयान में कहा गया कि भारत और अमेरिका दोनों देश इस बात को मानते हैं कि पाकिस्तान को आतंकियों और आतंकवादी संगठनों को रोकने के लिए जल्द ठोस, अपरिवर्तनीय और भरोसा करने लायक कदम उठाने होंगे। साझा बयान में आगे बताया गया है कि भारत जिस तरह काउंटर टेररिज्म के खिलाफ कदम उठा रहा है, वह सराहनीय हैं।
बैठक में किन आतंकी संगठनों का जिक्र हुआ इसका तो फिलहाल पता नहीं चल सका है लेकिन इसमें मसूद अजहर और उसके आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद का नाम भी शामिल हो सकता है। दरअसल, भारत मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने की मांग कर रहा है लेकिन चीन द्वारा बार-बार इसमें अडंगा लगा दिया जाता है। पर अब अमेरिका के साथ-साथ फ्रांस, जर्मनी जैसे देश भी भारत के साथ हैं और मसूद को वैश्विक स्तर पर ब्लैकलिस्ट करने की कोशिशों में लग गए हैं।
पुलवामा हमले के बाद बढ़ा पाक पर प्रेशर
पाकिस्तान पर पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद प्रेशर बढ़ गया है। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। हमले के पीछे जैश का नाम सामने आया था जिसका सरगना मसूद पाकिस्तान में है। आतंकी संगठन को सबक सिखाने के लिए पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में स्थित आतंकी ठिकानों पर भारत ने एयर स्ट्राइक भी की थी। जिसमें कई आतंकियों के मारे जाने का दावा किया गया था।
हालांकि, पाकिस्तान लगातार इस बात को नकारता रहा है कि उसके यहां किसी भी प्रकार के टेरर कैंप हैं या उनकी सरकार किसी तरह के आतंकवाद को पनाह दे रही है जबकि पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद ने ही एक टीवी इंटरव्यू में यह कूबल लिया था कि मसूद पाकिस्तान में ही है, जिससे उनकी पोल खुल गई थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »