अमेरिका: इमिग्रेशन नियमों का उल्लंघन करने पर 600 भारतीय स्टूडेंट्स हिरासत में

नई दिल्‍ली। अमेरिका में कथित तौर पर इमिग्रेशन नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में करीब 600 भारतीय स्टूडेंट्स को हिरासत में लिया गया है। अमेरिकन तेलुगु एसोसिएशन (ATA) के अनुसार यूएस इमिग्रेशन ऐंड कस्टम्स एनफोर्समेंट एजेंसी के द्वारा की गई छापेमारी के दौरान भारतीयों को हिरासत में लिया गया। ATA ने एक फेसबुक पोस्ट में इस बात का जिक्र किया कि होमलैंड सिक्योरिटी डिपार्टमेंट, यूएस इमिग्रेशन ऐंड कस्टम्स ने देशभर में विदेशी छात्रों पर ऐक्शन के दौरान बड़ी संख्या में तेलुगु छात्रों को गिरफ्तार किया है।
एसोसिएशन ने बताया है कि अमेरिकी एजेंसियों की कार्यवाही उन विदेशी छात्रों को टारगेट करके की गई, जो अनुमति के बिना ही देश में रह रहे थे। वहीं, होमलैंड सिक्यॉरिटी डिपार्टमेंट ने कहा है कि उसने अवैध तरीके से रह रहे विदेशी स्टूडेंट्स को टारगेट करने के लिए फर्मिंग्टन हिल्स (मिशिगन) में एक फर्जी विश्वविद्यालय स्थापित किया। डेट्रॉयट में बुधवार को आरोपों में इस बात का जिक्र किया गया।
अमेरिकन तेलुगु एसोसिएशन ने कहा कि 2015 से यूनिवर्सिटी एक संघीय कानून प्रवर्तन एजेंसी के अंडरकवर ऑपरेशना का हिस्सा थी, जिसे इमिग्रेशन फ्रॉड में शामिल छात्रों और उन्हें भर्ती करने वालों की पहचान करने के लिए डिजाइन किया गया था। आरोपों के मुताबिक स्टूडेंट्स की भर्ती करने वाले 8 लोगों पर कम से कम 600 विदेशी नागरिकों को अमेरिका में गैरकानूनी तरीके से रहने में मदद करने की साजिश में शामिल होने का आरोप लगा है।
एसोसिएशन ने कहा, ‘प्रभावित छात्रों और उनके मित्रों के द्वारा अमेरिकन तेलुगु एसोसिएशन को इस मामले की जानकारी मिली।’ इसके बाद से ATA को गाइडेंस और मदद के लिए फोन आ रहे हैं। ATA की पदाधिकारियों की टीमें कई शहरों में अपनी तरफ से उपाय तलाशने में जुट गई हैं। 30 जनवरी 2019 को सुबह से ATA की कानूनी टीम और स्थानीय ATA टीमों ने कई विश्वविद्यालयों में जाकर भारतीय छात्र संघों से मुलाकात की है। आगे के ऐक्शन के लिए वे स्टूडेंट्स और प्रभावित पक्षों को गाइडेंस मुहैया करा रहे हैं।
ATA ने कई वकीलों से संपर्क किया है और इस बात की पुष्टि हो गई है कि 600 छात्रों के लिए अरेस्ट वॉरंट जारी किए गए हैं। फर्मिंग्टन यूनिवर्सिटी से जुड़े 100 स्टूडेंट्स को गिरफ्तार किया गया है। 8 एजुकेशनल कंसल्टिंग एजेंट्स को ICE कस्टडी में लिया गया है।
ATA भारतीय राजदूत हर्षवर्धन सिंगला से और अटलांटा में कांसुलेट जनरल ऑफ इंडिया डॉ. स्वाती विजय कुलकर्णी से मिलकर उन्हें मामले की जानकारी दी है। बताया गया है कि राजदूत और कांसुलेट जनरल प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। ATA 31 जनवरी को 7pm पर इस मामले से संबंधित एक वेबिनार भी करेगा। इस दौरान जानकारों की तरफ से स्टूडेंट्स और छात्रों को गाइड किया जाएगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »